अभिनेता मनोज बाजपेयी ने कहा कि वह बहुत खुश हैं कि उनके काम पर सरकार द्वारा मुहर लगाई गई है. उन्होंने कहा कि मेरे लिए पद्मश्री मिलना मेरे अब तक सफर और भरोसे को सम्मानित किए जाने जैसा है. मनोज ने पद्मश्री के लिए नामित होने के एक दिन बाद मीडिया को बताया, “यह किसी भी पेशेवर के लिए बहुत बड़ा सम्मान है क्योंकि यह सम्मान मात्र किसी एक खास फिल्म या प्रदर्शन के लिए नहीं है. यह मेरे अब तक के सफर को सम्मानित किया जाना है.” इसके अलावा दिवगंत एक्टर कादर खान और डांसर-फिल्ममेकर प्रभुदेवा जैसे सितारों के नाम इस लिस्ट में शामिल हैं.

उन्होंने कहा, “इसके अलावा सरकार की ओर से यह सम्मान एक तरह से सिनेमा के लिए किए गए योगदान पर भी मुहर लगाना है. इसलिए हां, मैं इसे लेकर बहुत खुशी महसूस कर रहा हूं. मेरा परिवार, दोस्त और प्रशंसक मुझे संदेश भेज रहे हैं. मुझे खुशी हो रही है कि मेरे काम को सरकार द्वारा मान्यता दी गई है.” मनोज वाजपेयी अगली फिल्म ‘सोनचिरैया’ में नजर आएंगे जो एक मार्च को रिलीज हो रही है. फिल्म 1970 के डकैतों द्वारा नियंत्रित एक छोटे कस्बे पर आधारित है.

मनोज बाजपेयी हिन्दी फ़िल्म इंड्स्ट्री के एक जाने माने अभिनेता हैं. मनोज को प्रयोगकर्मी अभिनेता के रूप में जाना जाता है. उन्होने अपना फ़िल्मी कैरियर 1994 में शेखर कपूर निर्देशित अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त फ़िल्म बैंडिट क्वीन से शुरू किया. बॉलीवुड मे उनकी पहचान 1998 में राम गोपाल वर्मा निर्देशित फ़िल्म सत्या से बनी. इस फ़िल्म ने मनोज को उस दौर के अभिनेताओं के समकक्ष ला खड़ा किया. इस फ़िल्म के लिये उन्हें सर्वश्रेष्ठ सह-अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार भी दिया गया.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.