#MeToo कैंपेन के शुरू होने के बाद से बॉलीवुड के तमाम सेलिब्रिटी इसमें घिर चुके हैं. इस कैंपेन के तहत फिल्म डायरेक्टर साजिद खान पर भी कई एक्ट्रेस और बाकी महिलाएं यौन शोषण का आरोप लगा चुकी हैं. इन आरोपों के चलते IFTDA यानी इंडियन फिल्म एंड टेलीविजन डायरेक्टर्स एसोसिएशन ने साजिद को एक साल के लिए ससपेंड करने का फैसला किया था जिसपर एक्ट्रेस सलोनी चोपड़ा ने ट्विटर पर अपनी प्रतिक्रिया दी है.

सलोनी ने पोस्ट किया, ” संस्था ने महिलाओं का साथ दिया और साजिद की गलती के प्रति कड़ा रुख अपनाया है जो काबिल-ए-तारीफ है. इस तरह के गलत व्यवहार को सामान्य मानकर चुप रहने का मतलब है कि फिल्म इंडस्ट्री में हम सभी इसके लिए जिम्मेदार हैं, क्योंकि आप इसे प्रोत्साहित कर रहे हैं. मैं चाहती हूं कि साजिद उन सभी महिलाओं से माफी मांगें, जिनके साथ उन्होंने गलत हरकत की हैं.

इसके बाद सलोनी ने लिखा, ”ऐसी हरकत के लिए सिर्फ माफी अंतिम समाधान है, बल्कि यह अपनी गलती मानने के पहले कदम के बराबर है. कई बॉलीवुड फिल्में बना चुके साजिद खान के खिलाफ कई महिलाएं यौन उत्पीड़न का आरोप लगा चुकी हैं. इनमें से एक पीड़ित महिला ने बताया कि किस तरह साजिद ने उनके साथ अश्लील हरकतें कीं और सेक्सुअल फेवर्स की मांग की.


View this post on Instagram

As a woman, a feminist, a human – it is not my place to tell another woman what she should, or shouldn’t wear. Too many people in this world think empowering women means making them wear less clothes, the other lot thinks empowerment is when you encourage them to hide under dupatta’s & burkha’s – sorry to tell you the truth but neither of the two, when forced, are empowering. Empowering a woman, is giving her the freedom & right to choose for HER self. Forcefully making a woman do something she doesn’t believe in or wasn’t raised to want, is not feminism. I use my platform to talk about what I feel most bothered by – equality over my female body. I feel uncomfortable when my breasts are overly sexualized. I feel uncomfortable when a girl is slut shamed for a nip slip or when she feels the need to cover her cleavage bcos of how society will view her. I – dont always like to wear bra’s & when I choose not to, I’m not okay with being in danger. To me, the importance given to a female body disturbs me bcos as a woman, when I walk down the road at 2am (or even 10pm) I’m not scared of being robbed, mobbed, or killed – I’m scared of being Raped. It saddens me that my biggest fear is not death, its Rape. ‘Rape’ is how I’m taught a lesson. Bcos my body is a temple. And I no longer want to be a temple. So my fight for the right to my body is as important to me as education for women is. But that’s ME. I’ll continue to say it out loud every day that I can. For those that resonate or relate to it. Or even for those that want to understand. Does that give me the right to barge into another woman’s space & tell her she shouldn’t be covering herself? NO. I may fight for children in the future to be raised in an environment where they are not forced by their parents or their surrounding – but I, along with every other person, has no right to tell a woman how she feels empowered. If raising kids & cooking for her family & covering her body to keep her dignity is how SHE was raised & that’s what empowers HER – then whether I agree or not, I’ll fight for her right to live the way she wants to till the end. #feminism #women #empowerment #india 📷 @haram_khor_

A post shared by Saloni Chopra (@redheadwayfarer) on

इन आरोपों के बाद साजिद खान अपनी आने वाली फिल्म ‘हाउसफुल 4’ के निर्देशक पद से भी हट गए थे. इसके बाद साजिद ने लिखा, ”मेरे खिलाफ लगाए जा रहे आरोपों, मेरे परिवार और आने वाली फिल्म हाउसफुल 4 के प्रोड्यूसर् और एक्टर्स पर दबाव बनाया जा रहा है. इस दवाब के चलते मैं इसकी नैतिक जिम्मेदारी लेता हूं और फिल्म के डायरेक्टर के पद से हटने का फैसला करता हूं.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ