दुष्कर्म मामले में आरोपी बॉलीवुड एक्टर आलोक नाथ आलोकनाथ को हाल ही में कोर्ट ने अग्रिम जमानत दी है. इंडस्ट्री की जानी मानी लेखिका-निर्देशक विनता नंदा ने उन पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था. इतने समय से चुप रहने के बाद वह आखिरकार सशर्त रूप से बोलने के लिए सामने आए हैं. आलोक ने कहा, “माननीय अदालत और मेरे वकीलों ने मुझे अभी पूरी तरह से चुप रहने की सलाह दी है. वास्तव में, मैं पूरे समय शांत रहा हूं. हो सकता है, कुछ शब्द मेरे मुंह से गुस्से में निकल गए हों. अन्यथा, मैं तीन महीने से पूरी तरह शांत रहा हूं.”

उन्होंने कहा, “मेरे लिए फिलहाल कोई टिप्पणी करना सही नहीं है. लेकिन हां, हमें (आलोक और उनके वकीलों की टीम) अग्रिम जमानत मिल गई है, और हम इसके लिए बहुत आभारी हैं. जब भी मैं बोलने की स्थिति में होउंगा, मैं ईमानदारी से आपसे बात करूंगा.” आलोक ने हालांकि, अपनी पत्नी आशु का आभार व्यक्त किया. उन्होंने कहा, “वह मेरे लिए शक्ति स्तंभ रही हैं. मैं ईश्वर का आभारी हूं कि मेरी इस पूरी यात्रा में वह मेरी सहयात्री रहीं. वह हमेशा मेरे साथ रही हैं. और मेरी सच्चाई उनकी सच्चाई है, और यह ईश्वर की सच्चाई है. इसलिए, मैं इसके लिए भगवान का आभारी हूं.”

आलोकनाथ ने कहा कि उनका अगला कानूनी कदम अदालत के आदेश पर निर्भर करेगा. अभिनेता ने कहा, “मैं अभी कुछ भी नहीं बता सकता हूं. लेकिन एक बात मैं आपको बता सकता हूं. यह लड़ाई अपने उचित निष्कर्ष तक पहुंच जाएगी, और सच्चाई, जो कुछ भी है, वह सामने आ जाएगी.” अपने साथ हुए सबसे बुरी घटना का जिक्र करते हुए नंदा ने बताया कि एक बार वह आलोक नाथ के घर पर हुई पार्टी में शामिल हुई और वहां से देर रात दो बजे के करीब घर जाने के लिए निकलीं. उनके ड्रिंक में कुछ मिला दिया गया था.

नंदा ने कहा, “मैं घर जाने के लिए खाली सड़क पर पैदल ही चलने लगी. रास्ते में उस शख्स ने गाड़ी रोकी, जो खुद चला रहा था और कहा कि मैं उनकी गाड़ी में बैठ जाऊं, मुझे घर छोड़ देगा. मैं उस पर विश्वास करके गाड़ी में बैठ गई.”