देश भर में मीटू’ अभियान(#MeToo movement) के तहत महिलाएं अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठा रही हैं. फिल्म इंडस्ट्री से लेकर कॉर्पोरेट घरानों में काम करने वाली महिलाएं अब खुलकर आपबीती लोगों और मीडिया के सामने रख रही हैं. वहीं बॉलीवुड के तमाम दिग्गज और बड़ी शख्सियत इस बारे में अपनी राय रख रहे हैं.

भारत में यौन उत्पीड़न के खिलाफ जोर पकड़ रहे ‘मीटू’ अभियान(#MeToo movement) के बारे में फिल्म निर्माता रोनी स्क्रूवाला का कहना है कि इससे बॉलीवुड में सिस्टम ज्यादा पारदर्शी बनेगा. इस अभियान ने बॉलीवुड में एक सामूहिक चेतना और जागरुकता पैदा की है. जब स्क्रूवाला से पूछा गया कि क्या नई प्रतिभाएं फिल्म इंडस्ट्री का हिस्सा बनने से डरेंगी, तो कहा, “मैं कल्पना कर सकता हूं कि कुछ डर और घबराहट हो सकती है और यह उभरती प्रतिभाओं से ज्यादा उनके माता-पिता में हो सकता है, लेकिन अब क्योंकि यह खुलकर सामने आ गया है, यह अभियान सिस्टम को और अधिक पारदर्शी बनाएगा.”

उन्होंने कहा, “अब, लोग जानते हैं कि स्थिति का जवाब कैसे दिया जाए और यह उन्हें करियर में आगे बढ़ने से नहीं रोकेगा. इससे पहले, लोगों के साथ यह सब इस तरह से हुआ कि वे आवाज उठाने से डरते थे क्योंकि उन्होंने सोचा कि अगर उन्होंने समझौता नहीं किया तो उनका करयिर खत्म हो जाएगा..लेकिन अब, ऐसा नहीं है.”

स्क्रूवाला ने 20वें जियो मामी मुंबई फिल्म महोत्सव के दौरान मीडिया से बात की. महोत्सव की शुरुआत उनकी फिल्म ‘मर्द को दर्द नहीं होता’ के प्रीमियर के साथ हुई.

(इनपुट एजेंसी से भी)