सोनू निगम इन दिनों अपनी बयानबाजी से खबरों में बने हुए हैं. एक चैनल पर इंटरव्यू में अनु मलिक के सवाल उन्होंने #MeToo मामले पर उनका साथ दिया जिसके बाद कई स्टार्स ने इसपर प्रतिक्रिया दी है. बॉलीवुड सिंगर सोना माहापात्रा ने इस बारे में सोनू पर बयान दिया है. सोना को सोनू द्वारा अनु मलिक का बचाव करना अच्छा नहीं लगा और उन्होंने अपना विरोध जता दिया. Also Read - Bigg Boss 14 Musical Night For Contestants-नाचते-नाचते आखिर कौन बन गया घर का कैप्टन?

सोनू ने यह भी कहा था, “अगर आप कहते हैं कि ‘अनु मलिक ने आज सुबह मुझसे मुलाकात की’ तो यह ठीक है. लेकिन आपने बिना किसी सबूत के आरोप लगाए, इसे भी स्वीकार करें. अगर वह (अनु मलिक) इस पर कुछ बोलना चाहते, तो बहुत कुछ बोल सकते थे. लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया.” उन्होंने कहा था, “अगर मैं कहूं कि आपने मेरे साथ बदतमीजी की तो आप कहेंगे की सबूत दिखाओ? लेकिन सबूत तो नहीं है ना. Also Read - 'लातों के माफिया बातों से नहीं मानते', आखिर क्यों सोनू निगम ने दी टी सीरीज वाले भूषण कुमार को धमकी?

उन्होंने कहा, ”इसके बाद भी लोग आरोप लगाने वालों को सम्मान दे रहे हैं जो अनु मलिक को बदनाम कर रहे हैं. और, आप उनको बैन कैसे कर सकते हैं? किसी की रोजी रोटी को कैसे छीन सकते हैं आप? उनकी फैमिली को क्यों टार्चर करेंगे आप?” अनु मलिक पर गायिका सोना महापात्रा ने यौन दुर्व्यवहार का आरोप लगाया था. सोनू निगम द्वारा अनु मलिक का बचाव करने के बाद सोना महापात्रा ने सोनू के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराया. उन्होंने कहा कि सोनू की इस तरह की बातों को सुनकर उन्हें धक्का लगा. Also Read - सुशांत सिंह की आत्महत्या के बाद सोनू निगम ने बयां की 'सच्चाई', कहा- कल कोई सिंगर भी मर सकता है

संगीतकार राम संपत की पत्नी सोना ने ट्विटर पर लिखा, “एक करोड़पति की रोजी रोटी की इतनी चिंता और उनके प्रति इतनी सहानुभूति? इतनी सहानुभूति उसके परिवार के ‘उत्पीड़न’ के प्रति जिसके पास ढेरों विशेषाधिकार हैं? उन तमाम लड़कियों और महिलाओं का क्या जिनका उसने उत्पीड़न किया? इतनी सारी लड़कियों की गवाही क्या उसके अपराध को साबित करने के लिए पर्याप्त नहीं हैं? अकेल मैं नहीं, कोई सौ महिलाएं और पुरुष अनु मलिक के निंदनीय व्यवहार की गवाही दे सकते हैं.”

सोनू की पाकिस्तान संबंधी टिप्पणी पर सोना ने कहा, “क्या अरिजीत सिंह, बादशाह, विशाल ददलानी पाकिस्तान से हैं? आपको आपके हिस्से की प्रसिद्धि मिली है. भारत में बिना किसी अपवाद के हर तीन-चार-पांच साल में एक ‘पुरुष सुपरस्टार’ उभरता है. तो, पाकिस्तानी कलाकारों पर दोष न लगाएं और कला और संगीत का घालमेल राजनीति और विचारधारा से ना करें.”

इसके बाद सोनू ने ट्वीट किया, “ट्विटर पर सम्मानित महिला जो ट्विटर पर उलटी कर रही है, किसी ऐसे शख्स की पत्नी है जिसे मैं अपना बेहद करीबी मानता हूं, भले ही वह रिश्ते को भूल गई हैं, मैं मर्यादा बनाए रखना चाहता हूं.” उन्होंने कहा, “कोई जानवर ही होगा, जो #MeToo मूवमेंट (यौन शोषण के खिलाफ अभियान) का सर्पोट नहीं करता होगा.”

सोनू ने मीडिया को दिए एक बयान में कहा, “इतिहास में लंबे समय से महिलाएं उत्पीड़न का शिकार रही हैं. समय बिलकुल आ गया है कि उनसे संपत्ति और ट्राफी की तरह व्यवहार बंद किया जाए. अब वे पुरुषों से कंधे से कंधा मिलाकर चलती हैं.” उन्होंने कहा, “तो, आरोप लगाना सही है..लेकिन सजा देना? यह कैसे सही हुआ? सजा देना तो कानून का काम है.” उन्होंने कहा, हर मुद्दे पर हमेशा के लिए झगड़ने की जरूरत नहीं है. सकारात्मक पक्ष को देखो. पुरुषों ने अब महिलाओं के साथ ‘व्यवहार’ करना सीखा है. कुछ मजबूत महिलाओं के बलिदान ने जादू किया है और यह वर्तमान और भविष्य में शांतिपूर्ण और सुरक्षित कार्य वातावरण के लिए मार्ग प्रशस्त करता है.”