अभिनेता आलोक नाथ पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली लेखिका एवं निर्माता विनता नंदा का कहना है कि 20 साल पहले उनके साथ जो हुआ, उसके बाद वह पहली बार निडर महसूस कर रही हैं. विनता नंदा ने टीवी के संस्कारी बाबू आलोक नाथ पर 1990 के दशक में उनके साथ दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है.जब संवाददाताओं ने नंदा से इस मुद्दे पर आलोक नाथ के रुख के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा, “जो हुआ है, उसके बारे में सामने आकर उसे स्वीकार करने के लिए बहुत हिम्मत चाहिए होती है. उन्होंने 2003-2005 में भी मेरे आरोपों से इनकार नहीं किया था, जब मैंने मीडिया में इस बारे में कहा और लिखा था. इसलिए वह इस स्थिति में नहीं हैं कि वह मेरे आरोपों को आज भी झुठला सके. पहली बार इन 20 वर्षो में मैं निडर महसूस कर रही हूं.”विनता ‘मी टू’ मूवमेंट पर कहती हैं कि यह बहुत ही प्रेरित करने वाला अभियान है और इसी की वजह से आज मैं अपनी बात सभी के सामने रख पाई हूं.

20 साल लग गए
विन्ता नंदा ने कहा है कि इस घटना को सार्वजनिक करने में उन्हें 20 साल लग गए, क्योंकि शुरू में उन्हें लगता था कि गलती उनकी ही थी. नंदा ने कहा कि वह लंबे समय तक यह सोचती रही कि जो उनके साथ हुआ, वह उचित था और जब उन्होंने इस घटना के बारे में मुंह खोलने का फैसला किया तो आसपास के लोगों ने उन्हें चुप रहने की सलाह दी. उन्होंने कहा, ” मैं अपने जीवन में ऐसे मुकाम पर हूं जहां मुझे भय नहीं है. मैंने इस बारे में चर्चा की है. मैं लज्जित नहीं हूं. जिस व्यक्ति ने मेरे साथ ऐसा किया, उसे लज्जिज होना चाहिए.”

मैंने क्यों वह पेय पीया?
नंदा ने मुंबई में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ”खुलासा करने में लंबा समय लगा. लंबे समय तक मैं सोचती रही कि यह मेरी गलती थी. मैं उस पार्टी में क्यों गई और मैंने क्यों वह पेय पीया? मैं इतनी बोल्ड क्यों हूं, मैं इतना क्यूं बोलती हूं? मैं पुरुषों से क्यों बातचीत करती हूं?”

मेरे जिसने साथ ऐसा किया, उसे सजा मिले
नंदा ने कहा कि आगे के कदम के बारे में फैसला करने के लिए वह सलाहकारों से मिलेंगी. इसके पहले नंदा ने कहा कि इस घटना से उन्होंने अपना आत्म सम्मान खो दिया. वह चाहती हैं कि दोषी को सजा मिले. उन्होंने कहा, ”मैंने एक लेखक और एक इंसान के तौर पर अपना विश्वास गंवा दिया. इसने पूरी तरह मुझे बदल दिया…मैं चाहती हूं कि जिसने मेरे साथ ऐसा किया, उसे सजा मिले.”

न तो आरोपों को नकार रहा हूं और न ही सहमत
आरोपों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए नाथ ने एबीपी न्यूज से कहा, ”मैं न तो इन आरोपों को नकार रहा हूं और न ही इनसे सहमत हूं. यह (बलात्‍कार) हुआ तो होगा, लेकिन किसी और ने किया होगा. मैं अब इसके बारे में ज्‍यादा बात नहीं करना चाहता, क्‍योंकि अगर यह बाहर आएगा तो और भी खिंचेगा.” उन्होंने कहा कि नंदा के आरोप चल रहे मी टू अभियान का नतीजा है. आलोक नाथ ने कहा, ‘हालांकि हम सिर्फ महिलाओं का ही पक्ष सुनते हैं, क्‍योंकि उन्हें कमजोर माना जाता है.”

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.