कोच्चि: संगीत के उस्ताद ए.आर. रहमान को की-बोर्ड में डेब्यू करने का मौका देने वाले दिग्गज संगीत निर्देशक एम. के. अर्जुनन का सोमवार को उनके घर पर निधन हो गया. यह जानकारी उनके पारिवारिक सूत्र ने दी. उनकी उम्र 87 साल थी. Also Read - जयपुर पुलिस ने भी मसकली 2.0 को किया ट्रोल, कहा- बाहर घूमने वालों को बंद कमरे में सुनाया जाएगा ये गाना

अर्जुनन को खास तौर पर गायक के.जे. येसुदास की आवाज पहली बार रिकॉर्ड करने के लिए जाना जाता है. साल 2017 में रहमान अपने जन्मदिन के कार्यक्रम में भाग लेने के लिए अमेरिका से यहां आए थे. इससे भी ज्यादा उन्हें उनकी विनम्रता के लिए जाना जाता है, जो उनके वास्तविक जीवन में और संगीत में दोनों में नजर आता है. दिग्गज संगीत निर्देशक बढ़ती उम्र के कारण अक्सर बीमार रहते थे. Also Read - Entertainment News Today, April 10: AR रहमान के बाद 'मसकली' को लेकर राकेश ओमप्रकाश मेहरा भी हुए नाराज़ बोले....

साल 1968 में एक संगीतकार के रूप में उन्होंने फिल्म ‘करुथापूर्णमनी’ से अपने संगीत करियर की शुरुआत की थी. उन्होंने ड्रामा के लिए कंपोजिंग के अलावा 200 फिल्मों में 500 से अधिक गीतों पर काम किया. उन्होंने प्रमुख गीतकार श्रीकुमारन थम्पी के साथ करीब 50 फिल्मों में काम किया. आश्चर्यजनक बात तो यह है कि इस महान संगीत निर्देशक को एकमात्र केरल राज्य फिल्म पुरस्कार से ही नवाजा गया. Also Read - A. R. Rahman के मुताबिक इस काम को करना नया जन्म लेने जैसा है, इस नए एहसास का किया ज़िक्र  

उनके निधन पर मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कहा कि महान संगीतकार का निधन न सिर्फ संगीत उद्योग के लिए बल्कि समाज के लिए भी बहुत बड़ा नुकसान है. उनका अंतिम संस्कार कोच्चि में होगा.