Also Read - शाहरुख खान की फिल्म में संजय मिश्रा बने हीरो, नजर नहीं आएंगे किंग खान

मुंबई, 28 नवंबर: हाल ही में प्रदर्शित हुई बॉलीवुड फिल्म ‘जेड प्लस’ में नजर आईं अभिनेत्री मोना सिंह का कहना है कि ‘जेड प्लस’ जैसी राजनैतिक व्यंग्य वाली फिल्मों का हिस्सा होना संतोषजनक है क्योंकि इनमें कलाकार को भावनाएं व्यक्त करने की जरूरत होती है। मोना ने आईएएनएस को बताया, “किसी कलाकार के लिए ‘जेड प्लस’ जैसी फिल्म का हिस्सा होना संतोषजनक है क्योंकि इनमें भावनाओं की विस्तृत श्रृंखला होती है। दर्शक फिल्म देखेंगे तो उन्हें यह दिखेगा।” Also Read - संजय मिश्रा को मिला शाहरुख खान का साथ, 'कामयाब' में पहली बार लीड रोल में आएंगे नज़र, देखिए ट्रेलर

फिल्म ‘जेड प्लस’ मौजूदा राजनीति और लोकतांत्रिक हलचलों पर एक व्यंग्य है। चंद्रप्रकाश द्विवेदी निर्देशित ‘जेड प्लस’ में आदिल हुसैन, मुकेश तिवारी और संजय मिश्रा ने भी किरदार निभाया है। फिल्म शुक्रवार को सिनेमाघरों में उतरी। Also Read - अपनी शादी में जमकर नाचीं मोना सिंह, पंजाबी गाने में खूब लगाए ठुमके, देखें VIRAL VIDEO

छोटे पर्दे के ‘जस्सी जैसा कोई नहीं’ और ‘क्या हुआ तेरा वादा’ जैसे धारावाहिकों में यादगार भूमिकाएं निभाने वाली मोना पहले ‘3 ईडियट्स’ और ‘ऊट पटांग’ जैसी फिल्मों में भी नजर आ चुकी हैं।

मोना ने कुछ ही फिल्में की हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि हिंदी सिनेमा में अच्छी पटकथाओं की कमी है।

उन्होंने कहा, “हम जो फिल्में देखते हैं, उनमें अधिकतर रोमांटिक फिल्में होती हैं। मैं रोमांटिक फिल्मों के खिलाफ नहीं हूं, लेकिन यहां कुछ मेधावी सिनेमा भी होना चाहिए।”

उन्होंने कहा, “यहां कुछ ही ऐसी फिल्में हैं, जिन्हें मैं मेधावी सिनेमा में गिन सकती हूं। मैं ‘क्वीन’ को कई बार देख सकती हूं और उसके बाद ‘आंखों देखी’ मेधावी फिल्म है। मुझे ये फिल्में पसंद हैं। यह अलग तरह का सिनेमा है।”

मोना ने कहा, “अच्छी पटकथाएं मिलने में समय लगता है और हमारे फिल्मोद्योग में अच्छी पटकथाओं की कमी है।”