डायरेक्टर : रत्ना सिन्हा
संगीत : आनंद राज आनंद
कलाकार : राजकुमार राव, कीर्ति खरबंदा, गोविंद नामदेव Also Read - Roohi Box Office Collection Day 1: Jhanvi की फिल्म Roohi ने बनाया कमाई का रिकॉर्ड, जानें पहले दिन का कलेक्शन

कहानी- कानपुर  में रहने वाले मिश्रा परिवार अपने बेटे सतेंद्र (राजकुमार राव) की शादी के लिए लड़की ढूंढ रहे होते हैं. इसी दौरान उन्हें शुक्ला परिवार की बेटी कीर्ति खरबंदा (आरती) पसंद आती है. जिससे मिलने के लिए वे अपने बेटे को उसके कॉलेज भेजते हैं. वहां हिचकिचाते हुए सत्तू और आरती की मुलाकात होती है. ढेर सारी बातें होती हैं. दोनों को लगता है जैसे एक दूसरे के लिए ही बने हैं. मुलाकातों का दौर बढ़ने लगता है. सबकी मर्जी से शादी तय हो जाती है. हालांकि आरती के परिवार के पास दहेज देने के लिए उतने रूपए नहीं होते लेकिन फिर वे अपनी बेटी की खुशी के लिए शादी पक्की कर देते हैं. आरती पढ़ने में बहुत होशियार होती है. वहीं सत्तू यानी सतेंद्र कलर्क की सरकारी नौकरी कर रहा होता है. आरती का सपना होता है कि वो ऑफिसर बनें और शादी के बाद भी नौकरी करे. सत्तू इस बात के लिए तैयार भी हो जाता है. लेकिन सत्तू की मां का कहना है की मिश्रा परिवार की बहू नौकरी नहीं कर सकती. खैर, शादी की रात आती है. सत्तू मिश्रा परिवार की बहू को लिवाने के लिए दूसरे शहर चल पड़ता है. लेकिन उसी दिन आरती का सिविल सर्विस का रिजल्ट आ जाता है. आरती का मेन्स क्लियर हो जाता है. उसे समझ नहीं आता क्या करे. वो शादी छोड़कर भाग जाती है. सत्तू और उसका परिवार बेइज्जत होकर वापस बारात लेकर लौट आता है. कुछ साल यूं ही बीत जाते हैं. लेकिन उसके बाद आरती को घूस के आरोप में जेल भेजने की नौबत आ जाती है. तभी आता है कहानी में ट्विस्ट. ज्यादा बताकर हम आपके फिल्म देखने का मजा खराब नहीं करेंगे. एक नजर देखिए फिल्म का ट्रेलर

अभिनय- राजकुमार की राव के अभिनय के बारे में क्या कहना. लगातार उनकी एक्टिंग में निखार देखा जा रहा है. फिल्मों की चुनाव वे काफी देख-परेख कर करते हैं. फिल्म में भी उनकी नैचुरल एक्टिंग है. कहीं भी किसी चीज का कोई ओवरडोज नहीं. फिल्म में राजकुमार राव ने छोटे शहर के एक टिपिकल शरीफ लड़के का रोल किया है. जो मां-बाबूजी का कहना भी मानता है. क्लर्क का पेपर क्लियर करके नौकरी भी लग जाता है. घरवालों के कहने से अरैंज शादी करता है. जिसको पसंद करके आता है, उससे प्यार भी कर लेता है. वहीं कीर्ति खरबंदा ने भी बढ़िया एक्टिंग की है. Also Read - Bhumi Pednekar: भूमि पेडनेकर को आखिर क्यों नहीं आ रही नींद, ये फोटो पोस्ट कर बताई वजह, कहा...

shadi0
संगीत- फिल्म का म्यूजिक काफी अच्छा है. इसमें पल्लो लटके गाने का रीमेक भी आपको देखने को मिलेगा. फिल्म में कानपुर शहर का फ्लेवर है. हंसाने वाला ह्यूमर है. शादी के बैकग्राउंड में बजने वाले गाने भी मजेदार हैं. Also Read - The White Tiger Trailer: पहली बार प्रियंका और राजकुमार राव की दिखेगी जोड़ी, विलन पड़ेगा हीरो पर भारी?

shadi1

कुछ और भी- फिल्म की शुरूआत में लगा था शायद किसी मुद्दे पर बेस्ड होगी. लेकिन इसका ट्विस्ट प्यार और धोखे में जाकर खत्म हो जाता है. फिल्म के जरिए संदेश देने की कोशिश की गई है कि लड़की की पढ़ाई पूरी होने के बाद उस पढ़ाई का यूज होना भी जरूरी है बजाय इसके की उसे ‘सेटल डाउन’ का हवाला देकर शादी करने पर मजबूर कर दिया जाए. अगर सिंपल और जिंदगी के करीब की कहानी को देखने के शौकीन हैं तो इस फिल्म को देखा जा सकता है. सॉफ्ट, लाइट हार्टेड फिल्म है.