मुंबई: अभिनेत्री दीया मिर्जा ने अपने माता-पिता के अलगाव के दौर को याद किया, जब वह काफी छोटी थी और दुखी भी थी. हालांकि उनका कहना है कि उनके सौतेले पिता ‘एक उदाहरण पेश करने वाले इंसान’ थे, जिन्हें अच्छे से पता था कि परिस्थिति को कैसे संभालना है. Also Read - माधुरी दीक्षित को अपने पुराने लुक से है बेहद प्यार, तस्वीर शेयर कर कही ये बात...

  Also Read - बातूनी एक्ट्रेस काजोल के दिल में जगह बनाने का है ये अच्छा मौका, उनके इस सवाल का जवाब दें और जीतें....

View this post on Instagram

  Also Read - 'Thappad' की तैयारी पर Dia Mirza ने कही ये बात, आत्मसम्मान पर उठे हर सवाल का जवाब है ये फिल्म 

“Ek kahaani kehte kehte Ek kahaani aur milii“ – Gulzar Saab🧡 @houseofkotwara @samaalikotwara @lakmefashionwk #Baharan #HouseOfKotwara #HandCraftedInIndia #LakmeFashionWeek Photo by @tejasnerurkarr Jewellery courtesy @vijayjewellers HMU @gpkritikos Managed by @jainisha_shah @exceedentertainment @the_studiotalk @theiatekchandaney

A post shared by Dia Mirza (@diamirzaofficial) on

अभिनेत्री ने पिंकविला डॉट कॉम से कहा, “एक बच्चे के रूप में मुझे याद है कि मेरे माता-पिता दोनों किस तरह के संघर्ष से गुजर रहे थे और एक साथ न रहने के विचार में ही समाधान खोज रहे थे. वे एक-दूसरे की बहुत देखभाल करते थे, वे एक-दूसरे से प्यार करते थे. वे बस एक साथ नहीं रह सकते थे, क्योंकि वे जिंदगी से अलग चीजें चाहते थे और कभी-कभी, ऐसा होता है.”

अपने सौतेले पिता के बारे में दीया ने कहा, “मेरे सौतेले पिता उदाहरण पेश करे वाले इंसानों में से थे. उन्हें अपने पिता के रूप में स्वीकार करने में मुझे बहुत समय लगा. लेकिन उन्होंने समझदारी दिखाते हुए मेरे साथ दोस्ती की थी. 18 साल की उम्र में हैदराबाद छोड़ने और उनकी देखभाल से दूर आने से ज्यादा किसी चीज ने मेरा दिल नहीं तोड़ा. मैंने जन्म देने वाले पिता को तब खो दिया जब मैं कुछ भी नहीं थी और मैंने 23 साल की उम्र में अपने सौतेले पिता को भी खो दिया. दोनों पुरुषों ने जीवन के प्रति मेरी समझ को काफी प्रभावित किया.”