समाज में व्याप्त असमानता पर बोलने के लिए चर्चित अभिनेत्री नंदिता दास को लगता है कि सुंदर दिखने के लिए महिलाएं अक्सर दबाव में रहती हैं. नंदिता मुंबई में बुधवार को गुल पनाग और टिस्का चोपड़ा के साथ फ्लैगशिप स्टोर, शेड्स ऑफ इंडिया के लॉन्च पर मीडिया से बातचीत कर रही थीं.

वर्ष 2013 में ‘डार्क इज ब्यूटीफुल’ नामक एक अभियान चला था. अभियान का मकसद हमारे समाज में रंग की वजह से पुरुषों और महिलाओं के साथ हो रहे भेदभाव को उजागर करना था.

लल्लू की लैला: निरहुआ ने कहा ये फिल्म महिलाओं को देखना बेहद जरूरी, ऐसी क्या बात है?

वह हमेशा इस बात पर जोर देती रही हैं कि सभी रंगों के लोगों का समान रूप से सत्कार किया जाना चाहिए और अब इसी कड़ी में उन्होंने दो मिनट का एंथम लॉन्च किया है.

 

View this post on Instagram

 

Manto screening at the Tokyo university. I also introduced the audience to a younger cast member 😊

A post shared by Nandita Das (@nanditadasofficial) on

‘इंडिया गोट कलर’ इस का शीर्षक है. गाने में अली फजल, राधिका आप्टे, कोंकणा सेनशर्मा, गुल पनाग, दिव्या दत्ता, तनिष्ठा चटर्जी, तिलोत्तमा शोम, सयानी गुप्ता और सुचित्रा पिल्लई के साथ कई अन्य शामिल हैं.

इसके बारे में बात करते हुए नंदिता ने कहा, “डार्क इज ब्यूटीफुल अभियान किसी और के द्वारा शुरू किया गया था, लेकिन अब मैं इसका समर्थन करती हूं. इसने अपने दस वर्ष पूरे कर लिए हैं. मुझे लगता है कि सुंदर दिखने के लिए अक्सर महिलाएं दबाव में रहती हैं, जो बिल्कुल भी ठीक बात नहीं है.”

उन्होंने कहा, “वे कैसी लगती हैं इसके अलावा महिलाएं बहुत ज्यादा बुद्धिमान होती हैं. उनमें कौशल और प्रतिभा होती हैं, जिसके कारण वह जो चाहे वह कर सकती हैं.”

उन्होंने कहा, “यही कारण है कि हमने सोचा कि अब इसे नया नाम ‘इंडिया गोट कलर’ दिया जाए क्योंकि यही समय है, जब हमें विविधता का जश्न मनाना चाहिए.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ