अभिनेता नसीरुद्दीन शाह एक ऐसी शख्सियत हैं जो ऑन और ऑफ कैमरा दोनों जगह मशहूर हैं. नसीरुद्दीन एक्टिंग के साथ सामाजिक मुद्दों पर भी बेबाकी से बोलते हैं. हाल ही में उन्होंने कहा कि समाज काफी बुरी स्थिति से गुजर रहा है. हाल ही में उन्होंने कहा कि रेप की घटना के बाद दोषियों के बजाए लड़कियों को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है. हाल ही में पॉक्सो एक्ट में रेप पर फांसी के प्रावधान किए जाने का उन्होंने स्वागत किया और कहा ऐसे लोगों को सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए.

नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि ऐसी घटनाएं हमेशा से होती रही हैं लेकिन अब वह समय से रिपोर्ट हो रही हैं. उन्होंने कहा, ‘अखबार में मैंने बहुत बढ़िया बात पढ़ी जिसमें एक रेप पीड़िता ने कहा था कि हम अपने नाम और चेहरे क्यों छिपाएं, बल्कि ऐसे अपराधों को अंजाम देने वाले लोगों को अपना मुंह छिपाना चाहिए.’ उन्होंने कहा कि ये घटनाओं से डर का माहौल पैदा हो रहा है, लेकिन उनके बारे में बाक होनी चाहिए ताकि अधिक से अधिक लोग इस बारे में जान सकें.

पॉक्सो एक्ट में 12 साल से कम उम्र की लड़कियों से बलात्कार के अपराध में दोषी को मौत की सजा का प्रावधान करने वाले अध्यादेश का उन्होंने स्वागत किया. उन्होंने कहा कि 12 साल से कम नहीं बल्कि हर उम्र की लड़की या महिला से रेप करने वालों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए. उन्होंने कहा कि इस तरह की घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए इस बारे में लोगों की सहभागिता और जागरुता बहुत जरूरी है. इसके अलावा उन्होंने कहा कि हर मां-बाप अपने लड़कों को जागरुक करने का काम करें.