शिव सेना के दिवंगत नेता बाल ठाकरे की बायोपिक ‘ठाकरे’ की रिलीज के लिए पार्टी में हर शख्स उत्साहित नजर आ रहा है. संजय राउत ने कहा कि सेंसर बोर्ड की कैंची महाराष्ट्र के वरिष्ठ नेता के लिए बहुत छोटी बात थी. संजय राउत मुंबई में फिल्म के म्यूजिक लॉन्च के मौके पर फिल्म प्रजेंटर ‘वायाकॉम 18 मोशन पिक्चर्स’ के अजीत अंधारे और मीडिया से बात करे रहे थे.

इससे पहले सेंसर बोर्ड के ‘ठाकरे’ के तीन सीन और दो संवादों पर आपत्ति जताने की खबरें आईं थीं. बोर्ड ने कथित तौर पर बाबरी मस्जिद वाले दृश्य और मुंबई में रह रहे दक्षिण भारतीय समुदाय के खिलाफ उपयोग किए गए संवाद ‘यांडू गुंडू’ पर आपत्ति जताई थी. सेंसर बोर्ड द्वारा फिल्म के प्रमाण पत्र देने के सवाल पर राउत ने कहा, “आपसे किसने कहा कि बोर्ड को फिल्म से आपत्ति है? फिल्म के हिंदी संस्करण को सेंसर बोर्ड ने पास कर दिया है. फिल्म में हर वो चीज है जो दर्शक देखना चाहते हैं.”

 

View this post on Instagram

 

Few more hours of wait for the trailer of the toughest role I have done ever #Thackeray

A post shared by Nawazuddin Siddiqui (@nawazuddin._siddiqui) on

उन्होंने कहा, “मैं पहले ही एक बयान दे चुका हूं कि सेंसर बोर्ड की कैंची बालासाहेब ठाकरे के लिए बहुत छोटी चीज थी. वे ऐसे थे जो दूसरों पर सेंसर (नियंत्रण) करते थे.” ‘ठाकरे’ पत्रकार और सांसद संजय राउत ने लिखी है और इसका निर्देशन अभिजीत पनसे ने किया है. यह फिल्म हिंदी, मराठी और अंग्रेजी भाषाओं में रिलीज होगी.

यह फिल्म बाल ठाकरे की 93वीं जयंती पर 23 जनवरी को रिलीज होगी.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.