नई दिल्ली: महानायक अमिताभ बच्चन ने साल 1969 में आई फिल्म ‘भुवन शोम’ ने बॉलीवुड में डेब्यू किया था. 50 साल बाद, आज उन्हें बॉलीवुड का महान अभिनेता माना जाता है. भारत के अलावा वह दुनियाभर में भी अपने अभिनय के लिए जाने जाते हैं. अब बिग बी को 76 साल की उम्र में  दादा साहेब फालके अवॉर्ड से जल्द ही नवाजा जाएगा. सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट कर कहा, महानायक अमिताभ बच्चन जिन्होंने 2 पीढ़ियों के लिए मनोरंजन और प्रेरणा दी है, उन्हें दादा साहेब फाल्के पुरस्कार के लिए सर्वसम्मति से चुना गया है.

बता दें कि अमिताभ को इससे पहले भी कई पुरस्कारों जैसे, पद्म विभूषण और पद्मश्री से नवाजा जा चुका है. महानायक अमिताभ बच्चन को साल 1984 में पद्म श्री, साल 2001 में पद्म भूषण और साल 2015 में पद्म विभूषण से नवाजा गया था.

Amitabh Bachchan in a still from Kaun Banega Crorepati 11

अमिताभ बच्चन

अमिताभ बच्चन ने साल 1969 में डेब्यू किया था. 1971 में आई उनकी फिल्म ‘आनंद’ ने उन्हें बड़े पर्दे पर पहचान दिलाई थी. बेहतरीन अभिनय और कठोर परिश्रम के लिए उन्हें चार बार नेशनल अवॉर्ड से नवाजा गया है. साल 1990 में उन्हें फिल्म ‘अग्निपथ’ के लिए बेस्ट एक्टर के लिए नेशनल अवॉर्ड मिला था, फिर साल 2005 में उन्हें आई उनकी फिल्म ‘ब्लैक’ के लिए नेशनल अवॉर्ड मिला. इसके बाद साल 2009 में आई फिल्म ‘पा’ और 2015 में आई फिल्म ‘पीकू’ के लिए उन्हें नेशनल अवॉर्ड से नवाजा गया.

अमिताभ को ‘दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड’ देना उचित सम्मान, बिग बी का सिनेमा में बड़ा योगदान: अमित शाह

1973 में प्रकाश मेहरा की फ़िल्म ‘जंजीर’ में इंस्पेक्टर विजय खन्ना की भूमिका के रूप में अमिताभ बच्चन को अवसर दिया गया और यहीं से इनके कैरियर में प्रगति का नया मोड़ आया। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन को एक नई भूमिका एंग्री यंगमैन के रूप  में देखा गया. बॉक्स ऑफिस पर सफलता पाने वाले एक जबरदस्त अभिनेता के रूप में यह उनकी पहली फ़िल्म थी, जिसने उन्हें सर्वश्रेष्‍ठ कलाकार फ़िल्मफेयर पुरस्कार देने का अवसर प्रदान किया. बाद में अमिताभ बच्चन को हृषिकेश मुखर्जी के निर्देशन तथा बीरेश चटर्जी की ओर से लिखी ‘नमक हराम’ फ़िल्म में विक्रम की भूमिका मिली जिसमें दोस्ती के सार को प्रदर्शित किया गया था. राजेश खन्ना और रेखा के विपरीत इनकी सहायक भूमिका में इन्हें बेहद सराहा गया और इन्हें सर्वश्रेष्ठ सहायक कलाकार का फ़िल्मफेयर पुरस्कार दिया गया.

फिल्मी करियर में जहां अमिताभ बच्चन की बहुत सी फिल्में सुपरहिट रहीं, लेकिन कई ऐसी भी फिल्‍में उन्‍होंने की हैं, जिसे दर्शकों ने सिरे से नकार दिया. 2003 में आई इस फिल्म में अमिताभ बच्चन, जैकी श्रौफ़, गुलशन ग्रोवर, बोमन ईरानी और कटरीना कैफ जैसे बड़े सितारे शुमार थे, फिर भी यह फिल्म पर्दे पर कुछ नहीं कर पाई और सुपर फ्लॉप रही. वैसे ही यदि उनकी इंद्राजीत फिल्म की बात की जाए तो फिल्म में अमिताभ बच्चन, जया पर्दा, कादर खान, कुमार गौरव, नीलम कोठारी जैसे बड़े अभिनेताओं के होने के बाद भी यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास नहीं कर पाई. वहीं बिग बी की 1994 में रिलीज हुई फिल्म इंसानियत को भी लोगों ने पूरी तरह से नकार दिया था.