मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को राजपूत समूह के हिंसक प्रदर्शन के बीच विवादास्पद फिल्म ‘पद्मावत’ की सुरक्षित रिलीज को सुनिश्चित करने में केंद्र और राज्य सरकारों की असमर्थता पर सवाल उठाए. केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, “अगर सभी राज्य सरकारें, केंद्र सरकार और सर्वोच्च न्यायालय एक साथ मिलकर एक फिल्म की सुरक्षित रिलीज नहीं करा सकते और इसे चला नहीं सकते तो हम कैसे निवेश के प्रवाह की उम्मीद कर सकते हैं.” Also Read - बर्ड फ्लू के सैंपल निगेटिव आते ही दिल्ली नगर निगमों ने पोल्ट्री फॉर्म किए ओपेन, मांस की बिक्री भी शुरू

उन्होंने कहा, “विदेशी निवेश (एफडीआई) को तो भूल ही जाइए, यहां तक कि स्थानीय निवेशक भी दुविधा में होंगे. यह पहले से ही कमजोर अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा नहीं है. नौकरियों के लिए भी खराब है.” Also Read - सीएम केजरीवाल ने दिया बयान- वैक्सीन पर न फैलाएं भ्रम, दिल्लीवालों का मुफ्त में होगा टीकाकरण

यह ट्वीट ‘पद्मावत’ का मुखर रूप से विरोध कर रही करणी सेना की लगातार धमकियों के बाद आया है. सेना ने कहा है कि उसके कार्यकर्ता संजय लीला भंसाली के निर्दशन में बनी फिल्म को सिनेमा घरों में प्रदर्शित नहीं होने देंगे क्योंकि फिल्म में राजपूत रानी पद्मावती की छवि का चित्रण कम सम्मानित किया गया है. Also Read - School Reopening In Delhi 2021: 18 January से दिल्ली में खुलेंगे स्कूल, 10वीं-12वीं के क्लासेज होंगे शुरू