अलीगढ़: संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत के प्रदर्शन के विरोध में कई संगठनों की धमकी के मद्देनजर अलीगढ़ जिले के किसी भी सिनेमाघर में इसका प्रदर्शन नहीं किया गया. शहर के जिले के किसी भी सिनेमाघर में पद्मावत नहीं दिखाये जाने के संबंध में सवाल करने पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश पांडे ने कहा कि फिल्म दिखाना या नहीं दिखाना पूरी तरह से सिनेमाघर मालिकों की मर्जी पर निर्भर करता है. Also Read - एपीजे अब्दुल कलाम पर बनने जा रही है फिल्म, केंद्रीय मंत्री ने पोस्टर किया जारी

पुलिस ने सिनेमाघरों के बाहर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए हैं. हालांकि किसी भी सिनेमाघर मालिक ने हमसे अतिरिक्त सुरक्षा की मांग नहीं की. क्षत्रिय महासभा के जिला समन्वयक संतोष कुमार सिंह ने जिले के सभी सिनेमाघर मालिकों को पद्मावत फिल्म का प्रदर्शन करने पर अंजाम भुगतने की धमकी दी है. Also Read - सलमान खान अनोखे अंदाज में फैन्स को देंगे ईद का तोहफा, रिलीज होगी फिल्म 'भारत'

संतोष सिंह ने कहा कि उसका संगठन पद्मावती फिल्म का प्रदर्शन करने जा रहे सिनेमाघरों पर पिछले 2 दिनों से नजर रखे हुए है. उसने उन सभी सिनेमाघर मालिकों को चेतावनी दी है कि अगर उन्होंने फिल्म का प्रदर्शन किया तो अंजाम के लिए वे खुद जिम्मेदार होंगे. Also Read - A clash between Padmavati and Kaalakaandi will not happen | बॉक्स ऑफिस पर नहीं होगी 'पद्मावती' और 'कालाकांडी' के बीच टक्कर

एक सिनेमाघर मालिक ने नाम गोपनीय रखने की शर्त पर बताया कि वह अगले 1-2 दिन तक हालात पर नजर रखेंगे, उसके बाद फिल्म के प्रदर्शन को लेकर कोई निर्णय लेंगे. उन्होंने कहा कि सिनेमाघर मालिक एक फिल्म के नाम पर जान-माल का जोखिम मोल नहीं लेना चाहते.