थियेटर लवर्स के लिए दिल्ली में 7 दिनों तक एक बड़ा आयोजन होने जा रहा है. पन्ना भरत राम थिएटर फेस्टिवल का आयोजन 22 से 28 दिसम्बर तक किया जाएगा. हर साल की तरह इस साल भी इस फेस्टिवल का आयोजन श्रीराम सेंटर फॉर परफॉमिर्ंग आर्ट्स द्वारा कराया जा रहा है. इस फेस्टिवल की अवधारणा उत्कृष्टता और एक्सप्लोरेशन के आधार पर तैयार की गई थी और इसी के अनुरूप इसमें बेहद प्रशंसनीय, पुरस्कार विजेता प्रोडक्शन्स की पेशकश की जाती है, जो इसके दर्शकों को बेहतरीन शो देते हैं.

फेस्टिवल में इस साल गिरीश कर्नाड का तुगलक और अग्नि और बरखा, जोसेफ केसलिर्ंग की आर्सेनिक एवं ओल्डग लेस, मानव कौल का प्रेम कबूतर, निलॉय रॉय का दादू, रबिन्द्र नाथ टैगोर की पोएम ऑफ एन एंडिंग और ख्वाजा अहमद अब्बास का काला सूरज सफेद साये शामिल होंगे. आयोजकों का कहना है कि इस फेस्टिवल में हर किसी के लिए कुछ-न-कुछ मौजूद है.

इस दौरान छुट्टियों का मौसम रहने वाला है और इसलिए यह परिवार वालों और दोस्तों के साथ आनंद उठाने का एक बेहतरीन अवसर होगा. फेस्टिवल के लिए टिकट श्रीराम सेंटर और बुकमाईशो(Book My Show) पर उपलब्ध होगा और इसकी कीमत 200, 300 और 400 रूपए है. शो रोजाना 7 बजे से होंगे. फेस्टिव के पहले दिन 22 दिसंबर को तुगलक का प्रदर्शन होगा.

फेमस नाटककार गिरीश कर्नाड द्वारा रचित और के. माडवानी द्वारा निर्देशित तुगलक किसी शानदार ऐतिहासिक दस्तावेज का अनुभव देता है. इसी तरह 23 दिसंबर को प्रेम कबूतर दिखाया जाएगा. मानव कौल द्वारा रचित हिंदी नाटक प्रेम कबूतर स्कूली दिनों और किशोर उम्र के प्रेम की यादों को जिंदा करने वाला नाटक है. फेस्टिवल में 24 दिसंबर को आर्सेनिक एंड ओल्ड लेस, 25 दिसंबर को दादू (सोलो), 26 दिसंबर को काला सूरज सफेद साये, 27 दिसंबर को पोएम ऑफ एन एंडिंग और 28 दिसंबर को अग्नि और बरखा का प्रदर्शन होना है.