हिंदुस्तान और पाकिस्तान के बीच जब भी रिश्ते सुधेरने शुरू होते तब-तब ऐसा कुछ हो ही जाता है कि सब फिर से बिगड़ जाता है. कश्मीर विवाद को छोड़ दे तो दोनों देशों के बीच पिछले कुछ सालों से रिश्ते बदले थे. कम से कम काम के मामले में. कई पाकिस्तानी एक्टर्स और सिंगर्स को बॉलीवुड में काम करने का मौका मिला. कई हिन्दुस्तानी एक्टर्स भी हैं जो पाकिस्तानी फिल्म में काम कर चुके हैं. लेकिन उरी अटैक के बाद दोनों देशों में फिर से तनाव बढ़ गया और पाकिस्तानी एक्टर्स को हमारे देश में बैन कर दिया गया. इस टॉपिक को लेकर सितारे दो हिस्सों में बंटे हुए हैं. कुछ का मानना है कि ये सही फैसला है तो कुछ लोगों का कहना है कि कलाकारों को इन सब से दूर रखना चाहिए. जो लोग इस फैसले का समर्थन नहीं करते उसमें एक्टर परेश रावल का नाम भी शामिल है.

एक्टर और पॉलिटिशियन परेश रावल ने कहा कि कलाकार और क्रिकेटर बम नहीं फेंकते और वो खुद पाकिस्तानी धारावाहिकों और फिल्मों में काम करना पसंद करेंगे. परेश रावल ने एक न्यूज़ एजेंसी से बात करते हुआ कहा ‘‘हां, मैं पाकिस्तानी फिल्मों और धारावाहिकों में काम करना पसंद करूंगा. मैं ‘हमसफर’ जैसे सभी पाकिस्तानी धारावाहिकों को पसंद करता हूं, जिस तरह वे अभिनय करते हैं, कहानी, लेखन, भाषा..यह सबकुछ अच्छा है. मुझे महसूस होता है कि हमारे शो उबाउ हैं.’’

परेश ने आगे कहा, ‘‘ कलाकार और क्रिकेटर बम नहीं फेंकते. वे आतंकवादी नहीं हैं, बजाय इसके वह दोनों देशों के बीच की दूरी को पाटते हैं. जब मन अच्छा न हो तब उस मुद्दे को उठाने का क्या औचित्य है? यह बेहतर है कि आप अपने देश के साथ रहें.’’

परेश रावल लेखिका अरूंधती राय को लेकर हालिया विवादित बयान की वजह से चर्चा में थे जिसमें उन्होंने कहा कि कश्मीर में पत्थरबाजों के सामने उन्हें सेना की जीप पर बांधा जाना चाहिये.