Also Read - अनुष्‍का शर्मा को लेकर विवादित बयान पर सुनील गावस्‍कर ने दी सफाई, बोले- मैंने तो सिर्फ…

एक्टर्स: आमिर खान, अनुष्का शर्मा, सुशांत सिंह राजपूत, संजय दत्त, सौरभ शुक्ला, बोमन ईरानी Also Read - विराट के आउट होने पर गावस्कर के कमेंट से भड़कीं अनुष्का, पूछा-क्या सोचकर बोला ऐसा...

डायरेक्टर: राजकुमार हिरानी Also Read - सुशांत सिंह राजपूत मौत केस से ध्यान भटकने पर शेखर सुमन बोले- 'ड्रगीज को मरने दो, हमें ये बताओ.....'

प्रोड्यूसर: राजकुमार हिरानी, विधु विनोद चोप्रा, सिद्धार्थ रॉय कपूर

रेटिंग: * * * *

अब तक आमिर खान को आपने कई सुपर हिट फिल्मों में बेहतरीन एक्टिंग करते देखा होगा, लेकिन पीके बन कर आमिर ने जो कमाल दिखाया है वो वाकई बॉलीवुड के बाकि एक्टर्स की छुट्टी कर देगा। फिल्म पीके ना केवल आमिर खान की अब तक की सबसे बेहतरीन फिल्म है बल्कि डायरेक्टर राजकुमार हिरानी के करियर की भी यह अब तक की सर्वश्रेष्ट फिल्म हैं।

फिल्म शुरू होती अनुष्का शर्मा (जग्गू) से जो बेल्जियम में पत्रकारिता की पढाई करने के बाद भारत लौटती है और एक न्यूज़ चैनल में काम करना शुरू करती हैं। जग्गू अपने काम से संतुष्ट नहीं रहती और उन्हें तलाश रहती है किसी बड़ी खबर की। जग्गू की तलाश उन्हें आमिर खान तक ले आती है जो फिल्म में बने हैं ‘पीके’। जग्गू को पीके पहली नज़र में ही अजीब लगते है और वो उनका पिछा करने लगती है. जग्गू, पीके की हरकतों को ध्यान से देखती है. पीके की अजीब हरकते, उनका बर्ताव, उनका रहन सहन, जग्गू में दिलचस्पी पैदा करता है ।

फिल्म में आगे जग्गू और पीके की केमिस्ट्री काफी मस्ती भरी है। आमिर और अनुष्का पहले बार बड़े परदे पर साथ आएं है लेकिन यह जोड़ी पहली ही बार में सब का दिल जरूर जीत लेगी। इंटरवल तक फिल्म आपको अपनी सीट से बांधे रखती है, फिल्म की स्क्रिप्ट इतनी टाइट है की मानो ऐसा लगता है की इंटरवल कब ख़तम हो और फिल्म को जल्द देखें।

पीके आज के ज़माने के हिसाब से बानाई गई फिल्म है। आज जिस तरह ज़ात और धर्म के नाम पर  लोग लड़ते है उसी पर रौशनी डालने की कोशिश की है आमिर और राजकुमार हिरानी है। फिल्म दिलचस्प तो है लेकिन इस बात में दो राय नहीं की यह फिल्म अक्षय कुमार स्टारर फिल्म ‘OMG- ओ माए गॉड’ से मिलती जुलती  है।

आमिर खान का लुक और उनकी भोजपुरी भाषा सबका दिल जीत लेगी, अनुष्का शर्मा भि नए लुक में काफी रीफ्रेशिंग लग रहीं है। सौरभ शुक्ला एक ढोंगी बाबा के किरदार में खूब जच रहें है। सुशांत सिंह राजपूत और संजय दत्त का किरदार छोटा ही सही लेकिन दिलचस्प और इम्पोर्टेन्ट है। बोमन ईरानी का कोई ख़ास रोल नहीं है।

फिल्म के गाने ठीक ठाक है। अगर गानों पे थोड़ी और मेहनत की गई होती तो  सोने पर सुहागा होता।

काफी समय बाद ऐसी कोई साफ़ सुथरी फिल्म आई है जिसे हर वर्ग के लोग देख सकते है।