मुंबई: फिल्म एक्ट्रेस और फिल्म निर्माता पूजा भट्ट ने कहा कि उन्हें इस बात की खुशी है कि ‘मीटू’ आंदोलन ने महिलाओं को यौन उत्पीड़न की उनकी कहानियों को खुलकर बोलने का मौका दिया, लेकिन उनका मानना है कि ‘सार्वजनिक प्लेटफॉर्म पर रेटिंग’ करने के बदले कड़ी कार्रवाई का रास्ता अपनाना चाहिए. एक्ट्रेस ने कहा कि वह खुद यौन उत्पीड़न का शिकार हुई हैं. Also Read - Bigg Boss 14: सलमान के शो में झगड़े का तड़का, बाल कटे, बोतलें फूटीं, KISS हुआ, आपसे जो Miss हुआ वो यहां देख लें

Also Read - BB14 Live: रागिनी MMS रिटर्न्स फेम निशांत सिंह मलकानी ने शो में मारी एंट्री, रिया के सेक्सुअली हरासमेंट को लेकर हुई थी बहस बाजी

#MeToo: राजकुमार हिरानी पर महिला असिस्टेंट के यौन उत्पीड़न का आरोप, सफाई में ये कहा… Also Read - Casting Couch: सुरवीन चावला की बॉडी का एक-एक इंच देखना चाहता था डायरेक्टर, फिर एक्ट्रेस ने...

पिछले साल सितंबर में भारत में ‘मीटू’ आंदोलन की शुरुआत हुई. विभिन्न क्षेत्रों की महिलाएं सुरक्षित कार्य स्थल की मांग के साथ आगे आईं. पूजा ने कहा, ”नाम लेना चाहिए. मामले दर्ज कराने चाहिए और आरोपियों को अदालत तक लाना चाहिए. बिना परिणाम की तरफ सोचे सिर्फ पब्लिक प्लेटफॉर्म पर रेटिंग करना, मेरा मानना है कि थोड़ा ज्यादा है.’

#MeToo: एक और महिला पत्रकार ने अकबर पर लगाए आरोप, ‘होटल में बुलाया, अंडरवियर पहने हुए खोला दरवाजा’

पूजा का कहना है कि इस आंदोलन को सिर्फ सोशल मीडिया पर ही सीमित नहीं रखना चाहिए, बल्कि कानून की मदद से निपटना चाहिए.

आलोक नाथ पर रेप का आरोप लगाकर निडर महसूस कर रही हैं विनता नंदा, सालों से जो जख्म कचोट रहा था उसमें अब आराम है

पूजा ने कहा कि वह खुद यौन उत्पीड़न का शिकार हुई हैं. अभी पूजा के होम प्रोडक्शन की फिल्म ‘कार्बेट’ का प्रसारण जी5 पर हो रहा है. वह ‘सड़क2’ के साथ अभिनय की दुनिया में वापसी कर रही हैं.