अभिनेत्री पूजा भट्ट ने हाल ही में अमिताभ बच्चन के कठुआ और उन्नाव रेप केस पर दिए बयान की आलोचना की थी. दरअसल, फिल्म 102 नॉट ऑउट के प्रमोशन के दौरान अमिताभ बच्चन से कठुआ गैंगरेप के बारे में सवाल किया गया था कि घटना के बारे में आपका क्या कहना है. इस पर बिग बी ने कहा था- बहुत निंदनीय है. उन्होंने कहा कि लोग इस बारे में उनसे न पूछे. इस बारे में बात करने से उन्हें घिन आती है.  जिसके बाद पूजा भट्ट ने ट्वीट कर कहा था- मैं पिंक जैसी फिल्म की याद दिलाने में मदद नहीं कर सकती. क्या सिल्वर स्क्रीन पर दिखने वाली इमेज को रियलिटी में नहीं लाया जा सकता. पूजा के इस ट्वीट के बाद लोगों ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया और एक ट्रोलर ने तो पूजा भट्ट को शराबी तक कह डाला. लेकिन इस एक्ट्रेस ने भी मामले को आया-गया नहीं जाने दिया बल्कि ट्रोलर की जमकर क्लास लगाई. Also Read - कंपकपाती ठंड में ऐश्वर्या ने पहनी साड़ी, भीगीं, डांस किया और फिर....

ट्रोलर ने लिखा- एक सीजनल कीड़ा और एक जानी-मानी एल्कोहलिक अमिताभ बच्चन के नाम पर पब्लिसिटी पाने की कोशिश कर रही है.

इसके जवाब में पूजा ने लिखा- शराब की लत से उभरने के लिए मुझे खुद पर गर्व है. ऐसे देश में जहां लोगों को ये भी मालूम नहीं है कि उन्हें पीने की लत है. मुझे खुशी है कि मैं भीड़ से अलग हूं.

पूजा भट्ट का नाम 90 के दशक की सफल अभिनेत्रियों में आता है. ‘दिल है कि मानता नहीं’, ‘सड़क’, ‘जख्म’ उनकी हिट फिल्मों में शामिल हैं. पूजा भट्ट फरवरी में तब चर्चा में आईं, जब उन्होंने शराब के एडिक्शन से बाहर निकलने पर किताब लिखने की घोषणा की. पूजा भट्ट एक समय में शराब की बेहद आदी हुआ करती थीं. उन्होंने अपना पूरा वाकया शेयर किया था कि वे किस तरह इस बुरी लत से बाहर निकलीं. पूजा भट्ट ने बताया था कि पहली बार उन्होंने सिगरेट 23 साल की उम्र में पी थी. वे 16 साल की उम्र से ड्रिंक कर रही थीं. एक वक्त ऐसा था जब वे शराब की आदी हो गईं.

फाइल फोटो

फाइल फोटो

बकौल पूजा, 21 दिसंबर, 2016 को मेरे पिता ने दिल्ली से मुझे मैसेज किया और हम देश के हालात पर बात करने लगे. हमारे बीच नेताओं को लेकर बात हुई. फोन रखते हुए उन्होंने मुझसे कहा, ‘आई लव यू बेटा.’ मैंने जवाब दिया ‘आई लव यू टू पापा. दुनिया में इससे ज्यादा प्यारा मेरे लिए कुछ और नहीं है.’ उनका जवाब था, ‘यदि तुम मुझसे प्यार करती हो तो तुम खुद से प्यार करो, क्योंकि मैं तुम्हारे अंदर बसता हूं.’फोन रखने के बाद मैं सोचने लगी कि क्या किसी के साथ बाहर जाना और व्हिस्की पीने का दिखावा करने का मतलब खुद से प्यार करना है…इसका ‘न’ था.इस तरह पूजा अपनी ड्रिंक की लत से बाहर निकलने में सफल रहीं.