बॉलीवुड में आमिर खान मिस्टर पर्फेक्शनिस्ट के नाम से भी जाने जाते हैं. चाहे वे किसी फिल्म में काम कर रहे हों या किसी इवेंट में शिरकत कर रहे हों, वे सुर्खियां बन ही जाते हैं. अक बार फिर आमिर खान चर्चा में बने हुए हैं लेकिन इस बार बात जरा हटके है. अभिनेता आमिर खान की फिल्म ‘कयामत से कयामत तक’ की रिलीज के 30 साल बाद इसकी एक बार फिर स्क्रीनिंग होने जा रही है. 1988 में रिलीज हुई ‘कयामत से कयामत तक’ में आमिर खान और जूही चावला मुख्य भूमिका में नजर आए थे.

इस रोमांटिक फिल्म ने रातों रात आमिर खान को सुपरस्टार बना दिया था. फिल्म ‘कयामत से कयामत तक’ ने बॉक्स ऑफिस पर भी रिकॉर्ड तोड़ कमाई की थी और दर्शकों ने फिल्म को बेहद पसंद किया था. इस साल फिल्म ने अपनी रिलीज के 30 साल पूरे कर लिए हैं और ऐसे में एक प्रसिद्ध रेडियो स्टेशन ने फिल्म की खास स्क्रीनिंग का इंतजाम किया है. 12 मई को मुंबई के मैटरडन दीपक सिनेमा में 30 साल बाद एक बार फिर ‘कयामत से कयामत तक’ को बड़े पर्दे पर दिखाया जाएगा और आमिर खान से लेकर फिल्म की पूरी कास्ट मिलकर फिल्म का लुत्फ उठाएगी.

अब इन सबके बीच सबसे सवाल यह उठ रहा है कि एक पीढ़ी बीतने के बाद इस कामयाब फिल्‍म को क्‍या अब ‘क्‍लासिक’ का दर्जा दिया जा सकता है? ऐसा इसलिए क्‍योंकि इस फिल्‍म ने बॉलीवुड के लिहाज से कई नए प्रतिमान बनाए. नतीजतन हिंदी फिल्‍मी इंडस्ट्री का रंग-ढंग काफी बदल गया. मसलन आजादी के चार दशक बाद रिलीज हुई इस फिल्‍म में बुर्जुगों की युवाओं से अपेक्षा और इस कारण उनको अपने सपनों को तिलांजलि देने के लिए मजबूर होने की कश्‍मकश को काफी अच्छे तरीके से दिखाया गया है.