नई दिल्ली: सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद से बॉलीवुड और म्यूजिक इंडस्ट्री में नेपोटिज़्म वगैरह के विषयों पर बहस तेज़ हो गई है. कई सितारों ने इस मुद्दे पर अपनी बात भी रखी है. इसी सिसलिले में लोकप्रिय रैपर रफ्तार का मानना है कि पैसे और शारीरिक शक्ति की ताकत उन लोगों को डराने के लिए काफी है जो म्यूजिक बिजनेस में नए आए हैं. Also Read - 'इज्जत कमाई जाती है, आदेश करने से नहीं मिलती', तापसी पन्नू ने साधा कंगना रनौत पर निशाना ? 

रफ्तार ने कहा, “याद रखें कि सच्ची शक्ति प्रशंसकों के हाथों में होती है. शरीर और धन की शक्ति किसी ऐसे व्यक्ति को डराने के लिए अच्छा तरीका हो सकती हैं, जो म्यूजिक इण्डस्ट्री में नया है लेकिन असली प्रतिभा हमेशा चमकती रहेगी.” Also Read - नेपोटिज़्म पर विवाद में आए करण जौहर ने बनाया नया इंस्टाग्राम अकाउंट! इन सितारों ने किया फॉलो  

‘ऑल ब्लैक’, ‘स्वैग मेरा देसी’ और ‘तो ढिशूम’ रैप के लिए मशहूर रफ्तार ने नेपोटिज्म पर कहा, “हमें इस पूरे इनसाइडर-आउटसाइडर बहस को रोकने की जरूरत है. हमें असली प्रतिभा को तलाशने की और उसे मौका देने की जरूर है फिर चाहे वह इनसाइडर हो या आउटसाइडर. हां, पश्चिम दुनिया के विपरीत भारत में पक्षपात और भाई-भतीजावाद है और हमें इसे जड़ से मिटाना होगा.”

 

View this post on Instagram

 

Glad to be A.L.I.V.E. #mrnair Edit : @maxwilfred

A post shared by KALAMKAAR RAFTAAR (@raftaarmusic) on

उन्होंने आगे कहा, “जिस दिन हम कलाकारों को उनके सोशल मीडिया स्टेटस या उन्हें मिले बड़े अवॉर्डस या प्रोजेक्ट के आधार पर जज करना छोड़ देंगे उस दिन पक्षपात का यह पूरा सिस्टम खत्म हो जाएगा. कलाकारों की यह पीढ़ी अपनी क्षमता, अधिकार और व्यावसायिक मूल्यों को लेकर समझदार है. इसीलिए भाई-भतीजावाद और पक्षपात के पूरे आंदोलन को दर्शक मिल गए हैं, वरना पहले ये चीजें लोगों को पता ही नहीं चलती थीं.” रफ्तार को फिलहाल ‘एमटीवी रोडीज रिवॉल्यूशन’ में देखा जा रहा है.