भोजपुरी सिनेमा को नई पहचान दिलाने वाले अभिनेता रवि किशन का 17 जुलाई को जन्मदिन है. इस मौके पर आइए जानते हैं उनकी जिंदगी से जुड़ी की अनजानी बातें. साल 1969 में मुंबई के सातांक्रूज इलाके में जन्मे रवि किशन को बचपन से ही अभिनय का बेहद शौक था. वे पुजारी के बेटे हैं. जब वे छोटे थे तो रामलीला में सीता का रोल किया करते थे जोकि उनके पिता को बिल्कुल पसंद नहीं था. जब भी उन्हें पता चलता रवि ने फिर कोई नाच गाना किया है तो वे बेल्ट से बेटे की पिटाई किया करते थे. वे नहीं चाहते थे कि एक ब्राह्मण का बेटा ‘नचनिया’ बने, लेकिन उनकी मां, बेटे के इस दर्द को समझती थी. उन्होंने ही रवि को घर से भागने में मदद की, और कहा- जाओ अपने सपनों को जी लो.

Video: सपना चौधरी का दुपट्टा खींचकर इस शख्स ने किया ऑफर, ‘मुंह दिखाई’ का क्या लोगी?

रवि ने एक इंटरव्यू में बताया था कि लोग चलकर इस इंडस्ट्री में आते हैं वो तो रेंग कर आए हैं. एक वक्त तो ऐसा आया कि उनके पास कोई काम ही नहीं था पैसों के अभाव में उन्होंने गलत रास्ता तय करने का सोचा. लेकिन उनके पिता ने ऐसा करने से मना कर दिया. उन्हें जो भी छोटा मोटा काम मिलता उसके पैसे नहीं मिलते. प्रोड्यूसर के चैक बाउंस हो जाते. वे सारा दिन फिल्म निर्माताओं के घर के चक्कर लगाते रहते. फिर एक दिन उन्होंने अपनी मां के कहने पर भोजपुरी फिल्म ‘सइयां हमार’ साइन की. फिल्म सुपरहिट साबित हुई और इनकी गाड़ी चल निकली. उसके बाद ‘पंडित जी बताई न बियाह कब होई’ फिल्म आई. उसने भी अच्छी कमाई की. लेकिन फिर उनकी किस्मत खुली. रवि को बिग बॉस में जाने का मौका मिला. उसके बाद इस अभिनेता ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. अपने भोजपुरी अंदाज और ‘अद्भुत’ या फिर ‘बाबू’ और ‘जिन्दगी झंड बा, तब्बो घमंड बा’ जैसे जुमलों की वजह से वे बहुत पॉपुलर हो गए.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Ravi Kishan (@ravikishann) on

रवि ने अपनी जिंदगी बहुत दुख में काटी है. एक वक्त ऐसा था जब उनके पास बस में सफर करने के लिए पैसे नहीं होते थे. आज रवि किशन के पास कई महंगी गाड़ियां हैं. बीएमडब्ल्यू, ऑडी समेत कई गाड़ियां रवि किशन के पास हैं. रवि को बाइक चलाने का भी शौक है. रवि ने एक इंटरव्यू में बताया कि ”मेरे स्ट्रगल के समय मेरी मदद किसी ने भी नहीं की…मुझे याद है मेरी बेटी पैदा हुई थी उस वक्त मेरे पास उसे अस्पताल से लाने तक के पैसे नहीं थे. तब मैंने ब्याज पर पैसे लेकर अपनी पत्नी और बेटी को अस्पताल से बाहर निकाला था. बता दें, रवि अभी तक हिंदी भोजपुरी और दक्षिण भारतीय भाषाओं की 116 से ज्यादा फिल्में कर चुके हैं. उनकी तीन बेटियां और एक बेटा है. रवि किशन अब भोजपुरी भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल कराने में प्रयासरत हैं.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.