Rekha Birthday 10 October: आज रेखा का जन्मदिन है. बॉलीवुड की सबसे खूबसूरत अभिनेत्री रेखा जिंदगी भर सच्चे प्यार के लिए तरसती रही. अभी जितेंद्र के गम से वो बाहर निकली ही थीं कि उन्हें विनोद मेहरा का सहारा मिला. हालांकि दोनों ही स्वभाव में बिल्कुल अलग थे. रेखा जहां बिंदास थी वहीं विनोद कम बोलने वाले और सौम्य एक्टर थे. विपरीत स्वभाव की वजह से ही दोनों एक दूसरे की तरफ खिंचते चले आए. रेखा सेक्स जैसे विषयों पर खुलकर बोलती थीं. वहीं विनोद मेहरा भी अपने करियर पर फोकस कर रहे थे. Also Read - कभी मां नहीं बनेंगी कविता कौशिक बोलीं- अभी हम खाली जगह...

फिल्में हिट हो जाने के बाद अभिनेता की मां को उनकी शादी की चिंता सताने लगी. मां-बेटे के बीच बहुत प्यार था इसलिए विनोद ने बिना सोचे समझे अपनी मां की पसंद से मीना ब्रोका से शादी कर ली. शादी के कुछ दिन के बाद उन्हें दिल का दौरा भी पड़ा, लेकिन वो बच गए. इसके बाद उनका दिल हीरोइन बिंदिया गोस्वामी के लिए धड़कने लगा. विनोद ने बिंदिया से शादी कर ली और मीना को तलाक दे दिया. लेकिन बिंदिया के साथ भी विनोद का रिश्ता ज्यादा दिन तक नहीं चल पाया. Also Read - Jacqueline Fernandez ने शेयर की हॉट तस्वीरें, इस मदहोशी में हर कोई कैद हो जाना चाहता है!

Also Read - Jaan Kumar Sanu की गलती के लिए पापा कुमार सानू ने माफी मांगी, बोले- पता नहीं इनकी मां ने....

उसके बाद विनोद का दिल रेखा के लिए धड़कने लगा. रेखा ने विनोद की मां कमला मेहरा को खुश करने की बहुत कोशिश की. लेकिन फिर भी वे किस ना किसी बात को लेकर नाराज हो जातीं. इधर विनोद भी रेखा को खुद को बदलने का दबाव डालने लगे. वे रेखा को मीडिया से दूर रहने की सलाह देते. रेखा उतनी ही मीडिया के करीब चली जाती. इससे दोनों के बीच झगड़ने बढ़ने लगे.

विनोद धीरे-धीरे रेखा से कन्नी काटने लगे. जब रेखा को इस बात का अहसास हुआ तो उन्होंने क्रॉकरोच मारने की दवाई पीकर खुद को मारने की कोशिश की. जिसके बाद काफी हंगामा हो गया था. इस घटना के बाद विनोद मेहरा बुरी तरह हिल गए. खबरों के अनुसार दोनों ने कोलकाता में शादी कर ली.

विनोद जब रेखा को घर ले गए तो उनकी मां ने उन्हें घर में घुसने तक नहीं दिया. रेखा का स्वागत चप्पलों की बौछार से किया. विनोद मेहरा ने अपनी मां को समझाने की बहुत कोशिश की लेकिन कमला, रेखा को किसी भी कीमत पर अपनी बहू मानने को तैयार नहीं थीं. आखिरकार विनोद मेहरा को रेखा को छोड़ना ही पड़ा.