Republic Day 2021 Patriotic Bollywood Dialogues: आज पूरा देश गणतंत्र दिवस मना रहा है. लोकतंत्र के इस पर्व में हर कोई देशभक्ति की भावना में लीन है. मनोरंजन जगत में ऐसी कई फिल्में बनी हैं जिसमें देश प्रेम को दर्शाया गया है. ऐसी फिल्में लंबे वक़्त तक लोगों के बीच ज़िंदा रहती हैं. ठीक इसी तरह बॉलीवुड की दुनिया में ऐसे कुछ डायलॉग्स भी हैं जिसे सुनकर रगों में जोश भर जाता है और खून भी खौल उठता है. हिंदी सिनेमा जगत में देशभक्ति फिल्में खूब बनी हैं. भारत के लोग अपनी मिट्टी से इश्क़ करते हैं तभी इनके अंदर का देशभक्त हमेशा चौकन्ना रहता है. आइए गणतंत्र दिवस (Republic Day Deshbhakti Dialogues) के खास मौके पर नज़र डालते हैं ऐसे ही कुछ फ़िल्मी डायलॉग पर जिसे सुनकर हर हिन्दुस्तानी का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है:Also Read - Independence Day 2021: अजय देवगन से कंगना रौनत तक, इन स्टार ने निभाए स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के किरदार

# भीक में मिले देश और दान में मिले हथियारों के दम पर इतना भौंकना ठीक नहीं, जिस दिन जंग का ऐलान होगा अन्दर घुसकर मारेंगे : ज़मीन Also Read - Top Five Patriotic Films of Bollywood: बॉलीवुड की वो टॉप 5 फिल्में जिनमें देशभक्ति की भावना सांस लेती हैं-List

# ये इंडियन आर्मी है, हम दुश्मनी में भी एक शराफत रखते हैं : लक्ष्य Also Read - 26 जनवरी को लाल किले पर नहीं हुआ तिरंगे का अपमान, वीडियो में नहीं दिखी ऐसी कोई बात: शिवसेना

# रिलिजन वाला जो कॉलम होता है, उसमें हम बोल्ड और कैपिटल में इंडियन लिखते हैं : बेबी

# हम तो किसी दुसरे की धरती पर नज़र भी नहीं डालते, लेकिन इतने नालायक बच्चे भी नहीं हैं की कोई हमारी धरती पर नज़र डाले और हम चुप चाप देखते रहें: बॉर्डर

# मुझे स्टेट्स के नाम ना सुनाई देते हैं ना ही दिखाई देते हैं, सिर्फ एक मुल्क का नाम सुनाई देता है इंडिया : चक दे इंडिया

# तुम दूध मांगो हम खीर देंगे, तुम कश्मीर मांगोगे हम चीर देंगे: माँ तुझे सलाम

# आप नमक का हक़ अदा कीजिये, मैं मिटटी का हक़ अदा करता हूँ। : द लीजेंड ऑफ़ भगत सिंह

# ऐसी सभ्यता जिसमें एक कैथलिक औरत प्रधान मंत्री की कुर्सी एक सिख के लिए छोड़ देती है और एक सिख, प्रधानमंत्री की शपत, एक मुसलमान राष्ट्रपति से लेता है, उस देश की भाग दौड़ संभालने के लिए जिसमें 80 प्रतिशत लोग हिन्दू हैं: नमस्ते लंदन

# ये आज़ादी की लड़ाई है, गुज़रे हुए कल से आज़ादी, आने वाले कल के लिए: मंगल पांडे

# बॉर्डर पर मरने से ज्यादा बड़ा नशा कोई नहीं है: शौर्य

# अब भी जिसका खून न खौला, खून नहीं वो पानी है। जो देश के काम ना आये वो बेकार जवानी है: रंग दे बसंती

# तुम लोग परिवार के साथ यहाँ चैन से जियो इस लिए हम लोग रोज़ बॉर्डर पर मरते हैं: हॉलिडे: ए सोल्जर इस नेवर ऑफ ड्यूटी