Rhea Chakraborty Drugs Case: सुशांत सिंह राजपूत मौत (Sushant Singh Rajput Death Case) की मुख्य आरोपी रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) की मुश्किलें और बढ़ने वाली हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से खबर आ रही है कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत में ड्रग्स कनेक्शन की जांच कर रही NCB की 14 दिन की हिरासत में रिया चक्रवर्ती ने जांच एजेंसी के सामने ड्रग्स लेने की बात कबूल की है. रिपब्लिक टीवी की रिपोर्ट के अनुसार, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (Narcotics Control Bureau) की डेढ़ दिन की कड़ी पूछताछ के बाद आखिरकार रिया चक्रवर्ती के खुद के ड्रग्स का सेवन कनरे की बात कबूल कर ली. Also Read - रिया चक्रवर्ती की शिकायत पर सुशांत की बहनों पर FIR, सीबीआई ने मुंबई पुलिस को फटकारा

रिपब्लिक टीवी की रिपोर्ट में सोर्स के हवाले से बताया गया है कि रिया ने पहले दावा किया था कि उसने केवल सुशांत और उसके दोस्तों के लिए ड्रग्स की खरीदारी की थी, हालांकि अब उसने स्वीकार किया है कि उसने खुद भी ड्रग्स का सेवन किया था. रिपब्लिक टीवी की रिपोर्ट के अनुसार, रिया चक्रवर्ती का सब्र NCB के 55वें सवाल पर जवाब दे गया और उसने ड्रग्स का सेवन करने की बात कबूल कर ली. इसके साथ-साथ रिया ने फिल्म इंडस्ट्री से कुछ बड़े नामों का भी खुलासा किया. Also Read - नारायण राणे का बड़ा आरोप-कहा, सुशांत-दिशा की हुई थी हत्या, उद्धव का मंत्री था मौके पर मौजूद

इससे पहले, एनसीबी ने न्यूज एजेंसी ANI से पुष्टि की थी कि रिया ने सारा अली खान, रकुल प्रीत सिंह, सिमोन खंबाटा का नाम लिया है और उन्हें जल्द ही पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा. बता दें कि रिया 22 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में है और मुंबई की बाइकुला जेल के अंदर बंद हैं. रिया के अलावा, उसके भाई शोविक चक्रवर्ती, सुशांत के कर्मचारी दीपेश सावंत और शैमुएल मिरांडा और शोविक के दोस्तों को भी NCB ने हिरासत में लिया है. Also Read - जेल से छूटने के बाद ड्रग्स केस की आरोपी रिया चक्रवर्ती बिग बॉस 14 में करेंगी एंट्री? लेकिन...

उधर, सुशांत केस में ऐसे संकेत मिले हैं कि मुंबई पुलिस या मेडिकल बोर्ड की ओर से लापरवाही बरती गई है. दिवंगत बॉलीवुड स्टार का शव परीक्षण और उनकी महत्वपूर्ण विसरा को ठीक से संरक्षित नहीं किए जाने को लेकर भी संकेत मिले हैं. एम्स में उच्च पदस्थ सूत्रों ने न्यूज एजेंसी IANS को बताया कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में फॉरेंसिक मेडिसिन एंड टॉक्सिकोलॉजी साइंसेज विभाग द्वारा प्राप्त विसरा रिपोर्ट में बहुत कम जानकारी के साथ ही यह विकृत है.