71 साल पुराना आरके स्‍टूडियो के बंद होने के बाद अब 60 साल पुराने कमालिस्‍तान स्‍टूडियो पर भी ताला लगने वाला है. इस स्टूडियो को 1958 में कमाल अमरोही द्वारा स्‍थापित किया गया था. खबर है कि स्टूडियो को तोड़कर अब बिजनेस पार्क बनाया जाएगा. कमाल स्टूडियो में हिंदी की कई क्लासिक फिल्मों का निर्माण किया गया है. यहां महल (1949), पाकीजा (1972), रजिया सुल्तान, अमर अकबर एंथनी और कालिया जैसी फिल्में बनी थीं.अब केवल इस स्टूडियो की यादें सिनेमा प्रेमियों के जेहन में रह जाएंगी.

फाइल फोटो

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो 15 एकड़ में फैली इस जमीन पर जल्द ही देश का सबसे बड़ा कॉर्पोरेट ऑफिस तैयार किया जाएगा. इस विशाल कॉर्पोरेट ऑफिस का नाम एस्पायर रखा जाएगा. इस प्रोजेक्ट की कीमत 21 हजार करोड़ रुपये बताई जा रही है. डीबी रियलिटी और बेंगलुरु स्थित RMZ कॉर्पोरेशन ने मिलकर इस जमीन को नए सिरे से डेवलप करने का फैसला किया है.

सख्त स्वभाव के थे कमाल अमरोही
बॉलीवुड के मशहूर फिल्म निर्देशक कमाल अमरोही का जन्म 17 जनवरी 1918 को यूपी के अमरोहा में हुआ था. वे काफी सख्त स्वभाव के थे. उन्होंने अपने करियर के दौरान केवल 5 फिल्मों का ही निर्देशन किया. कमाल ने मुग्ल-ए-आजम फिल्म के डायलॉग लिखे थे.कमाल अमरोही और मीना कुमारी के निकाह की कहानी भी दिलचस्‍प है. दो घंटे के भीतर दोनों का निकाह हुआ था.माना जाता है कि मीना कुमारी की शोहरत देख कर कमाल उनसे जलने लगे थे. दोनों के रिश्ते में खटास बढ़ती गई. 31 मार्च 1972 को मीना कुमारी ने दुनिया को अलविदा कहा. 11 फरवरी, 1993 में कमाल अमरोही का इंतेकाल हो गया था.

गोदरेज ने खरीदा आरके स्टूडियो
चेंबूर स्थित आरके स्टूडियो को भी रियलिटी क्षेत्र के दिग्गज मालिक गोदरेज प्रॉपर्टीज लिमिटेड ने खरीद लिया है. यह क्षेत्र यहां 16 सितंबर 2017 को लगे आग में जलकर खाक हो गया था. आरके स्टूडियोज की स्थापना 1948 में की गई. बॉलीवुड के कपूर खानदान से आरके स्टूडियो खरीदने वाले जीपीएल ने अब यहां 350,000 वर्ग फीट में अत्याधुनिक आवासीय परिसर और एक लक्जरी रिटेल केंद्र बनाने का फैसला किया है.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.