बात वाकई गौर फरमाने वाली है कि क्या खुदा ऊंची आवाज में ही किसी की फरियाद सुनता है. क्या अपनी प्रार्थना को हम लाउडस्पीकर द्वारा ही परमात्मा तक पहुंचा सकते हैं?

गायक सोनू निगम के अजान वाले बयान पर बहस छिड़ गई है. सोनू का कहना है कि सुबह की अजान से उनकी नींद में खलल डलता है. उनका कहना है कि मंदिर हो या मस्जिद लाउडस्पीकर का इस्तेमाल नहीं होना चाहिए.  कुछ लोगों ने सोनू की इस बात का समर्थन किया है तो वहीं कुछ लोग इसके विरोध में उतर आए हैं.

इसी बीच म्यूजिक कंपोजर जोड़ी साजिद-वाजिद ने सोनू निगम की बात पर नाराजगी जताई है. साजिद ने इंडिया टुडे से बातचीत में कहा- जब लोग ज्यादा ड्रग्स ले लेते हैं तो उन्हें कोई भी आवाज पसंद नहीं आती. हम सोनू जैसे लोगों से बात नहीं करते.

वहीं दूसरी ओर वाजिद ने भी नाराजगी जताते हुए कहा कि सोनू की इस बात से उन्हें बेहद दुख पहुंचा है. मुझे उनसे ऐसी अपेक्षा नहीं थी.

आपको बता दें सोनू निगम ने सोमवार को ट्वीट किया था, ‘अज़ान’से नींद में खलल पड़ता है. धार्मिक स्‍थलों में लाउडस्‍पीकरों के प्रयोग को ‘गुंडागर्दी’है. सोनू ने अपने ट्वीट्स में लिखा, ”ईश्‍वर सबका भला करे. मैं मुस्लिम नहीं हूं और मुझे सुबह अज़ान के चलते उठना पड़ता है.

भारत में यह जबरन धार्मिकता कब खत्‍म होगी? बता दूं कि जब मोहम्‍मद ने इस्‍लाम बनाया तब बिजली नहीं थी. एडिसन के बाद भी मुझे यह शोर क्‍यों सुनना पड़ता है?

मैं किसी मंदिर या गुरुद्वारे द्वारा उन लोगों को जगाने के लिए बिजली के उपयोग को जायज नहीं मानता जो धर्म पर नहीं चलते. फिर क्‍यों? ईमानदारी? सच्‍चाई? गुंडागर्दी है बस.”