मुंबई: आगामी फिल्म ‘बैजू बावरा’ में संजय लीला भंसाली पहली बार संगीत पर आधारित फिल्म का निर्देशन करेंगे. यह फिल्म दो गायकों की कहानी पर आधारित है, जिसमें करीब दर्जनभर गाने होंगे. ऐसे में भंसाली का कहना है कि यह उनके करियर की सबसे बड़ी चुनौती है. उन्होंने कहा, “साल 1952 में आई फिल्म ‘बैजू बावरा’ में संगीत की जिन ऊंचाईंयों को नौशाद साब ने छुआ था, मैं उसके बारे में सोच भी नहीं रहा हूं. उनकी ऊंचाईयों को छूना नामुमकिन है.”

BIGG BOSS 13: हिंदुस्तानी भाऊ की पत्नी ने पुलिस में दर्ज की शिकायत, ये है बड़ी वजह

हालांकि निर्देशक ने अपनी फिल्म ‘रामलीला’ (2013) से आधिकारिक तौर पर म्यूजिक कंपोज करना शुरू किया था. कथित तौर पर भंसाली इस फिल्म से एक नई आवाज को इंडस्ट्री से परिचित करा सकते हैं, जिसकी आवाज उनके संस्करण की ‘बैजू बावरा’ में जान डाल सकती है. वहीं महिला गायिका को लेकर भंसाली ने कहा कि लता मंगेशकर की आवाज जैसी आवाज लाना लगभग नामुमकिन है.

अपने अभिनय का लोहा मनवाने वाले नवाजुद्दीन सिद्दीकी बोले- खुद को स्टार कहलवाना पसंद नहीं