कई लोग हैं जो आलिया भट्ट और शाहिद कपूर के डाई हार्ड फैन भले ही ना हो लेकिन इस खूबसूरत जोड़ी को हर कोई देखने के लिए बेताब था। धर्मा प्रोडक्शन और फैंटम फिल्म्स की मच अवेटेड फ़िल्म ‘शानदार’ आज रिलीज़ हो चुकी है। और ये बताते हुए मुझे बहुत बुरा लग रहा है की आख़िरकार आलिया भट्ट जैसी एक्ट्रेस के खाते में भी एक बुरी फ़िल्म आगई है। जी हाँ साफ़ शब्दों में कहें तो आलिया भट्ट और शाहिद कपूर स्टारर फ़िल्म ‘शानदार’ बेहद बोरिंग और मीनिंगलेस फ़िल्म है। (SHOCKING! शाहिद कपूर कर रहें हैं अपनी पत्नी मीरा को cheat, आलिया भट्ट के साथ चल रहा है अफेयर) Also Read - दुल्हन को छोड़ Mira Rajput के बिंदास अंदाज पर टिकीं सबकी निगाहें, होश वालों पर कोई इल्ज़ाम न लगे

Also Read - Shah Rukh Khan और Alia Bhatt की जोड़ी इस फिल्म के लिए फाइनल, मगर किंग खान का रोल होगा अलग

फ़िल्म की कहानी के बारे में लिखने ने लिए मुझे बहुत देर तक सोचना पड़ा क्योंकि फ़िल्म की कोई कहानी ही नहीं है। फ़िल्म का शुरू से लेकर अंत तक कोई मतलब ही नहीं है। खैर अब फ़िल्म बनाई ही गयी है तो आपको कहानी भी बता ही देते हैं। कहानी शुरू होती है विपिन अरोरा (पंकज कपूर) से जो एक अनाथ बच्ची आलिया (आलिया भट्ट) को घर ले आता है। घर में सिर्फ उसकी माँ कमला अरोरा का राज चलता है। विपिन की माँ आलिया को बिल्कुल भी पसंद नहीं करती। विपिन की खुद की बेटी भी है (सना कपूर) जो बहुत मोटी है और उसकी शादी होने वाली है। ये शादी दो अमीर परिवार से बीच सिर्फ एक बिजनेस डील है। इस शादी के वेडिंग प्लानर जगजिंदर जोगिंदर (शाहिद कपूर) हैं और वो पहली ही नज़र में आलिया से प्यार कर बैठते हैं लेकिन आलिया के पिता विपिन को बिल्कुल पसंद नहीं करते और उन्हें लगता है की उनकी बेटी इससे अच्छा लड़का डिसर्व करती है। फ़िल्म में एक अजीब बात ये भी है की आलिया और जगजिंदर दोनों को रात को नींद ना आने की बीमारी होती है। (Shaandaar Song Nazdeekiyaan: देखिये शाहिद कपूर और आलिया भट्ट का ब्लैक एंड व्हाइट रोमांस) Also Read - 2 Years of Gully Boy: 'मेरे बॉयफ्रेंड के साथ गुलु गुलु करेंगा तो...' गली बॉय के 2 साल, रणवीर-आलिया ने ऐसे किया याद

फ़िल्म के अंत में क्या होता है ये जाने के लिए आपको फ़िल्म देखनी पड़ेगी। लेकिन हां फ़िल्म देखने का रिस्क और अपने पैसे बर्बाद वहीँ करें जिन्हें कोई काम धाम नहीं है। फ़िल्म में शाहिद और आलिया की जोड़ी काफी क्यूट है लेकिन दोनों की केमिस्ट्री उठ कर नहीं आ पाई। फ़िल्म में ऐसा कोई सीन ही नहीं है जिससे ये लगे की दोनों एक दूसरे से प्यार करते हैं। इस फ़िल्म में अगर कोई सच में शानदार है तो वो है पंकज कपूर। जिन्होंने फ़िल्म में थोड़ी बहुत जान डाली है। (शानदार फिल्म के ट्रेलर लॉन्च के समय साथ दिखे शाहिद कपूर और आलिया भट्ट)

फ़िल्म का म्यूजिक ठीक ठाक है। गानों को बिना वजह कहीं भी घुसा दिया गया है। इन गानों के बीच आप और भी बोर होंगे। फ़िल्म के डायरेक्टर विकास बहल से आप ऐसी फ़िल्म की उम्मीद नहीं करते हैं क्योंकि उन्होंने बॉलीवुड को ‘क्वीन’ जैसी सुपरहिट फ़िल्म दी है। विकास से हम एक क्वालिटी और mature सिनेमा की उम्मीद करते हैं।

रेटिंग: * *