दिग्गज अभिनेत्री शबाना आजमी का कहना है कि सरकार की ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ योजना के प्रभावी बनने के लिए हमारी बेटियों का जिंदा रहना जरूरी है. शबाना ने यह विचार अनु और शशि रंजन द्वारा आयोजित 20वें बेटी एफएलओ ग्रेट अवार्ड्स-2018 में व्यक्त किए. वह अभिनेता जितेंद्र, अमित साध, अभिनेत्री भूमि पेडनेकर, हुमा कुरैशी, गायक अनूप जलोटा और अमृता फडणवीस के साथ सोमवार रात समारोह में शामिल हुईं.Also Read - गोलकीपर पीआर श्रीजेश की पत्नी अनीशा को यकीन कांस्य पदक जरूर जीतेगी पुरुष हॉकी टीम

Also Read - PM Modi to launch e-RUPI today: पीएम मोदी आज लॉन्च करेंगे e-RUPI, जानिए- नये डिजिटल भुगतान के फायदे

जम्मू एवं कश्मीर के कठुआ में आठ वर्षीय बच्ची को अगवा कर उसके साथ दुष्कर्म करने के बाद उसकी नृशंस हत्या करने की घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए शबाना ने कहा, “हमारा देश एक ही समय में कई सदियों में रह रहा है. हम 18वीं, 19वी, 20वीं और 21वीं सदी में एक ही समय में रह रहे हैं और इसका अनुभव हम देश में महिलाओं के साथ हो रहे व्यवहार में कर रहे हैं.” Also Read - नीतीश कुमार ने कहा- जाति आधारित जनगणना के मुद्दे पर पीएम मोदी से मिलूंगा

अभिनेत्री ने कहा, “हमारी महिलाओं ने अपने संबंधित करियर में बड़ी उपलब्धियां हासिल की हैं और नेतृत्वकर्ता बनी हैं, लेकिन दूसरी ओर हम ऐसी खबरें पढ़ते और देखते हैं, जिसे बयान करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं है. हम सबको एकजुट होना चाहिए और सुनिश्चित करना चाहिए कि इस तरह की घटनाएं नहीं हों.”

उन्होंने कहा, “हम हमेशा कहते हैं ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ और हमें इस बारे में काम करना चाहिए, लेकिन इसके लिए, सबसे पहले हमारी बेटियों का जिंदा रहना जरूरी है.”

अभिनेत्री हुमा कुरैशी ने इस मामले में प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह एक दुखद और दहलाने देने वाली घटना है. इस घटना के जिम्मेदार लोगों को सजा मिलनी चाहिए. अगर हम समाज के रूप में एक आठ साल की बच्ची की सुरक्षा करने में सक्षम नहीं हैं, तो फिर यह बेहद शर्मनाक बात है.

आरोपियों के समर्थन में निकली रैली. फोटो साभार- डीएनए

क्या था मामला?

बता दें, अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक, बच्ची के पिता ने 12 जनवरी को हीरानगर पुलिस स्टेशन में बेटी के लापता होने की शिकायत दर्ज कराई थी. उनके मुताबिक, लड़की जानवरों को चराने के लिए 10 जनवरी को दोपहर 12.30 बजे नजदीक के जंगल में गई थी. तब से लापता है. पुलिस ने एफआईआर दर्ज किया और शुरुआती जांच के बाद सांजी राम के भतीजे को गिरफ्तार कर लिया. मामला यहीं नहीं रुका. पूरे क्षेत्र में इस मामले में पुलिस पर लीपापोती का आरोप लगाकर प्रदर्शन किया. विपक्ष ने सरकार को घेरा और अंत में मामले को क्राइम ब्रांच को सौंप दिया गया. क्राइम ब्रांच की चार्जशीट के मुताबिक, इस पूरे षडयंत्र का मास्टरमाइंड सांजी राम है. उसने ही बच्ची का अपहरण और हत्या की साजिश रची.

पहले जंगल में बारी-बारी से रेप

10 जनवरी को पीड़िता घोड़ों को चराने जंगल गई. इस दौरान घोड़े इधर-उधर कहीं चले गए. मौका देखते ही नाबालिग पाड़िता के पास पहुंचा और घोड़ों के जंगल के अंदर होने की बात कही. मन्नू को साथ ले वह पीड़िता के साथ जंगल के अंदर चल दिया. इस दौरान गड़बड़ी की आशंका को देखते हुए पीड़िता वहां से भागने की कोशिश की, लेकिन नाबालिग ने उसके गर्दन को पकड़ कर मुंह दबा दिया. चार्जशीट के मुताबिक, इस दौरान पीड़िता जमीन पर गिर गई, जिसका फायदा उठा नाबालिग और मन्नू ने बारी-बारी से रेप किया. रेप के बाद दोनों पीड़िता को लेकर देवस्थान के अंदर पहुंचे और टेबल के नीचे दो प्लास्टिक कवर से ढक कर छुपा दिया.

(इनपुट आईएनएस)

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.