मुंबई: कोरोना काल के इस मुश्किल समय में ऐसे बहुत से हादसे हुए हैं जिन्हें सुनकर या देखकर इंसानियत से नफरत होने लगती है. मुसीबत, गरीबी और परेशानी से बंधे ऐसे कई वारदात हैं जो सरकार की व्यवस्था पर भी सवाल उठाते हैं. हाल ही में मुजफ्फरपुर रेलवे स्टेशन का एक वीडियो वायरल (Muzaffarpur Migrant Lady Video Viral) हुआ था, जिसमें एक महिला प्रवासी मजदूर के शव की चादर से उसका बच्चा खेलता नजर आ रहा था. Also Read - Shahrukh Khan Upcoming Movie: राजकुमार हिरानी की अगली फिल्म में होंगे शाहरुख़ खान, ऐसी है कहानी

इस घटना ने देश को हिलाकर रख दिया था और प्रवासी श्रमिकों की मुसीबत को रेखांकित करते हुए सभी को चकित कर दिया था. इस वीडियो के बाद शाहरुख खान (Shahrukh Khan) और उनके मीर फाउंडेशन (Meer Foundation) ने बच्चे की मदद और वित्तीय सहायता की पेशकश की है, जिसकी देखभाल अब दादा-दादी करेंगे. मीर फाउंडेशन ने पोस्ट किया, “हैशटैगमीरफाउंडेशन उन सभी का शुक्रगुजार है, जिन्होंने उस बच्चे तक पहुंचने में हमारी मदद की, जिसके दिल दहला देने वाले वीडियो, जिसमें वह अपनी मां को जगाने की कोशिश करता है, ने सभी को झकझोर कर रख दिया. अब हम उसकी मदद कर रहे हैं और वह अपने दादा की देखरेख में है.” Also Read - बॉलीवुड में शाहरुख खान ने पूरे किए 28 साल, इस अंदाज़ में कहा फैन्स को शुक्रिया 

वीडियो में बिहार के मुजफ्फरपुर रेलवे स्टेशन पर एक बच्चा अपनी मृत मां के ऊपर ओढ़ाए गए चादर से खेलता नजर आ रहा है. अरविना खातून नामक 35 साल की महिला प्लेटफॉर्म पर मृत अवस्था में नजर आ रही है, और उसके सामान से भरे दो बैग भी उसके पास रखे हुए हैं. महिला और उसके दो छोटे बच्चे 25 मई को अहमदाबाद से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से आए थे.

शाहरुख खान इस कठिन समय में देश के जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए आगे रहते हैं. हाल ही में कोलकाता अम्फान चक्रवात से प्रभावित हुआ था और शाहरुख खान, अपनी पत्नी गौरी खान के साथ अपनी टीम कोलकाता नाइट राइडर्स के साथ लोगों की मदद करने के लिए आगे आए.