'शेरनी' कोई भी हो सकता है, बशर्ते बिना गिरे या पीछे देखे अकेले चलने का दम हो, फिर स्त्री हो या पुरुष क्या फर्क पड़ता है

मैं एक पुरुष को भी शेरनी या एक महिला को शेरनी कहूंगा.

Published: June 22, 2021 3:13 PM IST

By India.com Hindi News Desk | Edited by Pooja Batra

Sherni is an attitude weather it is for male or female doesnt matter says Neeraj Kabi
Neeraj Kabi

Sherni is an Attitude Weather-अभिनेता नीरज काबी को लगता है कि ‘शेरनी’ (बाघिन) शब्द एक दृष्टिकोण को परिभाषित करता है और इसलिए इसे लिंग-विशिष्ट के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए.

Also Read:

नीरज ने कहा, “मेरे लिए शेरनी एक रवैया है. यह लैंगिक पक्षपात नहीं है. इसलिए, मैं एक पुरुष को भी शेरनी या एक महिला को शेरनी कहूंगा.”

विद्या बालन-स्टारर ‘शेरनी’ हाल ही में डिजिटल रूप से सामने आई और काबी कलाकारों में शामिल हैं.

उन्होंने कहा, “शेरनी साहस का एक दृष्टिकोण है और बिना गिरे या पीछे देखे, और बिना रुके अकेले चलने की शक्ति है .. चाहे कुछ भी हो जाए. इसलिए, मेरे लिए यह गुण रखने वाला कोई भी पुरुष या महिला एक शेरनी है.”

‘शेरनी’ में विद्या बालन आदमखोर बाघिन की तलाश में एक ईमानदार वन अधिकारी की भूमिका निभाती हैं. काबी एक वरिष्ठ अधिकारी की भूमिका निभाते हैं, जो अभावग्रस्त व्यवस्था का हिस्सा है.

अमित मसुरकर द्वारा निर्देशित फिल्म में शरत सक्सेना, मुकुल चड्ढा, विजय राज, इला अरुण और बृजेंद्र कला भी हैं.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें मनोरंजन की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: June 22, 2021 3:13 PM IST