नई दिल्ली: बॉलीवुड की दुनिया में कुछ ऐसी फिल्में हैं जिन्हें हर सदी में याद की जाएगी. ऐसी फिल्में अपनी कहानी और किरदारों की वजह से लोगों के दिलों में अमर हो जाती हैं. इसी फेहरिस्त का एक जगमगाता नाम है ब्लॉकबस्टर फिल्म ‘शोले’. इस सुपरहिट फिल्म ने 15 अगस्त को अपने 45 साल (45  years of Sholay) पूरे कर लिए. इस ख़ूबसूरत मौके पर फिल्म के कलाकार अमिताभ बच्चन, हेमा मालिनी और निर्देशक रमेश सिप्पी ने कुछ यादें और कुछ इनसाइड स्टोरीज शेयर किया है. Also Read - 'केबीसी 12' सीजन की शूटिंग में व्यस्त हैं बिग बी, इस खास अंदाज में फैंस के साथ शेयर की फोटो

सिप्पी ने बताया, “‘शोले’ को जिस तरह से लिखा गया था और जिस तरह से इसके किरदारों को उकेरा गया था, उसके चलते ये आज भी लोगों के जेहन में ताजा है, चाहें वह गब्बर के संवाद हो या बसंती की बकबक. यहां तक कि सांभा जिसने फिल्म में केवल दो ही शब्द कहे थे, उसकी भी यादें आज भी लोगों के दिलों में बरकरार है.” Also Read - मुंबई पुलिस ने अमिताभ बच्चन और जया बच्चन के बंगलों के पास सुरक्षा बढ़ाई

18 Facts About 'Sholay' That Will Compel You To Watch It Once Again! Also Read - Amazon Alexa की आवाज बनने वाले पहले भारतीय बने अमिताभ बच्चन, हिंदी में करेंगे बात और...

फिल्म में जय का किरदार निभाने वाले अमिताभ ने कहा, “‘शोले’ में तीन ही घंटे में बड़ी ही खूबसूरती से बुराई पर अच्छाई की जीत दिखाई गई है. यह पहली बार था जब किसी भारतीय फिल्म के लिए एक डायलॉग सीडी जारी की गई थी. एक्शन वाले दृश्यों को पहली बार एक ब्रिटिश क्रू द्वारा निर्देशित किया गया था, उन्हें खासतौर पर फिल्म के लिए भारत में बुलाया गया था और इसके बाद फिल्म को ब्रिटेन में संपादित किया गया – कई सारी चीजें पहली बार हुईं. एक निर्देशक के रूप में रमेश सिप्पी जी ने इसके बनाने के दौरान कई अप्रचलित बदलाव किए जैसे कि इसका लोकेशन, एक्शन कॉर्डिनेशन, कैमरा वर्क, 70मिमी और स्केल – मेरे ख्याल से ये सबकुछ रंग लाई.”

People still call me Basanti: Hema Malini on 40 years of 'Sholay ...

फिल्म में बसंती के किरदार को निभाने वाली दिग्गज अभिनेत्री हेमा मालिनी इस पर कहती हैं, “शूटिंग शुरू होने से पहले मुझे बताया गया था कि इसमें एक डांस सीक्वेंस है जहां मुझे एक उबड़ खाबड़ चट्टान के ऊपर कांच पर नांचना है. शूटिंग अप्रैल के महीने में हुई थी जब काफी गर्मी थी. मुझे याद है कि रमेश जी इस चीज को लेकर काफी पर्टिकुलर थे, लेकिन यह एक यादगार दृश्य बना.” यह फिल्म 1975 में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर रिलीज हुई थी.