नई दिल्ली: फिल्‍म ‘आशिकी2’ से फिल्‍म इंडस्‍ट्री में पहचान बनाने वाली एक्ट्रेस श्रद्धा कपूर (Shraddha Kapoor) को शाकाहारी बने एक साल से अधिक समय हो चुका है. इस दौरान उनमें आए ढेर सारे बदलावों को लेकर उन्होंने एक पोस्ट साझा की है. प्रकृति मां के संरक्षण को लेकर भी उन्होंने आवाज उठाई है. इस वल्र्ड नेचर कंजर्वेशन डे पर श्रद्धा ने सोशल मीडिया (Shraddha Kapoor Instagram) पर कुछ तस्वीरें साझा की हैं. इसमें उन्होंने कई ऐसी चीजें दिखाई हैं, जिनका इस्तेमाल करके वह प्रकृति के बचाव में अपना योगदान दे रही हैं. Also Read - श्रद्धा कपूर ने हासिल किया नया मुकाम, इस मामले में आलिया भट्ट-सलमान खान जैसे सितारों को पछाड़ा  

उन्होंने इन तस्वीरों को साझा करते हुए कैप्शन लिखा, “धरती और प्रकृति मां के संरक्षण के लिए काम करने को लेकर मुझमें कई बदलाव आए हैं. प्लास्टिक के बजाए बांस से बना टूथब्रश इस्तेमाल करना, शॉवर के बजाए बाल्टी में पानी लेकर नहाना, ताकि पानी की बचत हो, प्लास्टिक की बोतलों के बजाए तांबे की बोतल या यूजेबल बोतलें उपयोग करना. इसके अलावा आवारा जानवरों की देखभाल करना. जानवरों से दोस्ती के चलते पिछले साल 21 जुलाई से शाकाहारी बन चुकी हूं. मुझे उम्मीद है कि मैं अपनी धरती और जानवरों से प्यार के लिए इस यात्रा को जारी रख पाऊंगी.” Also Read - श्रद्धा कपूर ने दर्ज किया नया रिकॉर्ड, इंस्टाग्राम पर पूरे हुए 5 करोड़ फॉलोअर्स

  Also Read - Viral Video: सामने आया श्रद्धा कपूर का थ्रोबैक वीडियो, फिल्म प्रमोशन के दौरान ये करती आईं नजर

View this post on Instagram

 

Making changes within myself for planet earth and mother nature. Been using a bamboo toothbrush 🎋 (as an alternative to plastic ones), having bucket baths (to conserve 💧), using alternatives to single use plastic water bottles like copper, glass, and reusable bottles. Trying also to look out for stray animals, turning vegetarian last July 21st, a year ago 🥗 (because animals are friends ❤️) I hope I continue on this journey of working on myself to love our planet and it’s animals more. 🙏🏽💫🐯🌳💜 #SaveAarey #AnimalsAreFriends #SustainableLiving #LoveMotherNature #WorldNatureConservationDay Pic credit : Judy Banfield

A post shared by Shraddha ✶ (@shraddhakapoor) on

जाहिर है कि अभिनेत्री के ये कार्य कई लोगों के लिए प्रेरणास्पद हो सकते हैं.