बॉलीवुड के लोकप्रिय सिंगर और संगीतकार सलीम मर्चेंट का मानना है कि संगीत ध्वनि और मौन का खूबसूरत कॉन्बिनेशन है और कई संगीतकारों को मौन का महत्व समझना चाहिए. ‘धूम’, ‘कृष’ और ‘फैशन’ जैसी फिल्मों में बैकग्राउंड संगीत दे चुके सलीम ने, “जब बैकग्राउंड संगीत की बात आती है, तो यह समझना जरूरी है कि कहां संगीत देना है और कहा इसे रोक देना है.” Also Read - Bigg Boss 14 Musical Night For Contestants-नाचते-नाचते आखिर कौन बन गया घर का कैप्टन?

उन्होंने कहा, “हमारे सिनेमा में अगर बैकग्राउंड संगीत के वर्तमान परिदृश्य को देखे तो लोगों को संगीत में मौन का महत्व पता चलने के बाद यह और बेहतर हो जाएगा. मुझे लगता है कि यह इन दिनों नदारद है.”

Get your tickets! Link in bio

A post shared by Salim Merchant (@salimmerchant) on

सलीम मर्चेंट का जन्म गुजरात के बहुत में एक इस्माइली मुसलमान परिवार में हुआ था. इनके पिता का सदरुद्दीन मर्चेंट है जबकि बड़े भाई का नाम सुलेमान मर्चेंट हैं. सलीम बचपन से संगीत में बेहद रूचि रखते थे. सलीम पियानों बेहद सलीके से बजाते हैं. उन्होंने इसकी शिक्षा ट्रिन्टी कॉलेज ऑफ लंदन से ली है.

Day 2 in London!

A post shared by Salim Merchant (@salimmerchant) on

सलीम ने फिल्मी करियर की शुरुआत अपने भाई संगीतकर भाई सुलेमान के साथ की थी. उन्होंने अपने फिल्मी करियर के दौरान कई बेहतरीन और हिट फिल्मों में संगीत दिया है. वह हिंदी फिल्मों के अलावा कई टीवी कमर्शियल्स में भी संगीत दे चुके हैं.