बॉलीवुड अभिनेत्री सोहा अली खान ने हाल ही में अमृतसर के स्वर्ण मंदिर और महाराष्ट्र के गणपति पांडाल में अपनी मौजूदगी दर्ज कराई थी। इसके बाद से ही सोशल मीडिया पर सोहा के इस काम को लेकर लगातार सवाल उठाए जा रहे थे। सोहा ने अब जाकर इसका जवाब आलोचकों को दिया है।बता दे कि सोहा अली खान सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं। वो अकसर ही ट्विटर के जरिए अपने नए प्रोजेक्ट्स और अपनी फिल्मों के बारे में बताती रहती हैं। उनके अकाउंट पर पोस्ट हुई तस्वीरों से उनकी डेली लाइफ की भी एक झलक मिलती है।

ट्विटर पर चल रहे कमेंट्स पर रिएक्ट करते हुए सोहा अली खान ने सभी को एक करारा जवाब दिया। सोहा ने कहा ‘भारत एक सेक्युलर राष्ट्र है। मंदिर चले जाने मात्र से मैं ‘गैरमुस्लिम’ नहीं हो जाऊंगी।’ सोहा अपनी फिल्म ’31 अक्टूबर’ की रिलीज के पहले आशीर्वाद लेने के उद्देश्य से स्वर्ण मंदिर और गणपति पांडाल में पहुंची थीं। सोहा ने कहा ‘हम सभी को अपनी बात कहने का अधिकार है। मगर ऐसा कैसे हो सकता है कि कोई मुस्लिम यदि मंदिर चला जाए तो वो गैरमुस्लिम हो जाएगा। मैं यदि चर्चा जाऊं या फिर नमाज पढ़ूं। इससे किसी को क्या फर्क पड़ सकता है।’ यह भी पढ़े-सोहा अली खान और वीर दास की फिल्म ’31st अक्टूबर’ आपके रोंगटे खड़े कर देगी

सोहा ने कहा ‘एक सेक्यूलर राष्ट्र के निवासी होने के नाते हमें सभी धर्मों का समान रूप से सम्मान करना चाहिए। फिर किसी की पसंद कुछ भी हो।’ सोशल मीडिया पर कई यूजर्स ने कमेंट किया कि क्या उनके हिंदू पति (कुणाल खेमू) उनके साथ ईद मनाएंगे। इस पर सोहा ने कहा जिन लोगों ने यह सवाल पूछे हैं मैं उन्हें नहीं जानती इसलिए कोई इमोश्नल जवाब नहीं दूंगी।

गौरतलब है कि सोहा अली खान जल्द ही वीर दास के साथ पहली बार फिल्म ’31 अक्टूबर’ में नजर आएंगी। यह फिल्म शिवाजी लोटन पाटिल ने बनाई है। इस राजनैतिक ड्रामा को हैरी सचदेवा ने लिखा और प्रोड्यूस किया है। फिल्म 7 अक्टूबर को रिलीज होगी।