मुंबई. बॉलीवुड के एवरग्रीन स्टार गोविंदा (Govinda) ने फिल्म इंडस्ट्री में वर्षों तक अपनी फिल्मों के जरिए राज किया है. लेकिन आज गोविंदा को शक हो रहा है कि फिल्म इंडस्ट्री के कुछ लोग उनकी फिल्में रिलीज नहीं होने देना चाहते हैं. गोविंदा दरअसल अपनी आने वाली फिल्म ‘रंगीला राजा’ (Rangeela Raja) में कांट-छांट को लेकर नाराज हैं. ‘राजा बाबू’, ‘कुली नंबर वन’, ‘हीरो नंबर वन’, ‘दूल्हेराजा’ और ऐसी न जाने कितनी हिट फिल्मों के अभिनेता गोविंदा ने अपनी फिल्म ‘रंगीला राजा’ में सेंसर बोर्ड द्वारा कैंची चलाए जाने पर प्रतिक्रिया दी है. गोविंदा ने आरोप लगाया कि फिल्मोद्योग में लोगों का एक समूह है जो उनकी फिल्मों को रिलीज न होने देने के लिए षड्यंत्र रच रहा है. इस मामले को लेकर फिल्म के निर्माता पहलाज निहलानी (Pahlaj Nihlani) भी सेंसर बोर्ड पर आरोप लगा चुके हैं.

फिल्म में 20 कट लगाने को लेकर नाराजगी
केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) द्वारा 20 कट लगाए जाने की खबर के बाद बीते शनिवार की शाम को संवाददाता सम्मेलन में गोविंदा ने यह बात कही. इस फिल्म का निर्माण सीबीएफसी के पूर्व प्रमुख और फिल्मकार पहलाज निहलानी ने किया है. गोविंदा ने संवाददाताओं से कहा, ‘यह पिछले नौ साल से हो रहा है, यहां फिल्म उद्योग में लोगों का एक समूह मेरे खिलाफ षड्यंत्र रच रहा है और मेरी फिल्मों को किसी अच्छे मंच पर रिलीज नहीं होने दे रहा है.’ उन्होंने कहा, ‘या तो मेरी फिल्में रिलीज न हों या फिर उन्हें अच्छे थिएटर या स्क्रीन न मिलें. इसका ताजा उदाहरण ‘फ्राइडे’ है जो कुछ ही सप्ताह पहले रिलीज हुई. इसे मीडिया से बेहतर रिव्यू मिला लेकिन फिल्म थिएटरों से हटा ली गई.’ फिल्म ‘रंगीला राजा’ को लेकर गोविंदा पहले शख्स नहीं हैं, जिन्होंने सवाल उठाया है. उनसे पहले फिल्म के निर्माता पहलाज निहलानी फिल्म में कांट-छांट को लेकर कोर्ट का रुख कर चुके हैं.

Pahlaj-Nihlani

पहलाज निहलानी ने बॉम्बे हाईकोर्ट में दी है याचिका
पहलाज निहलानी की ‘इल्जाम’ से अपने अभिनय की शुरुआत करने वाले गोविंदा ने उनके साथ ‘शोला और शबनम’ तथा ‘आंखें’ में काम किया है और दोनों ही फिल्में सुपरहिट रहीं. आपको बता दें कि इससे पहले पहलाज निहलानी ने भी सेंसर बोर्ड द्वारा अपनी फिल्मों में कट लगाने और उसके रिव्यू में देरी को लेकर सवाल उठाया था. सेंसर बोर्ड के पूर्व प्रमुख और फिल्मकार पहलाज निहलानी ने पिछले हफ्ते बंबई हाईकोर्ट का रुख किया और सेंसर बोर्ड के एक आदेश को चुनौती दी. निहलानी ने अपनी याचिका में कहा कि सेंसर बोर्ड का सुझाव सही ठहराने लायक नहीं है, क्योंकि उनका मानना है कि फिल्म किसी भी तरह से अश्लील नहीं है. फिल्मकार ने सेंसर बोर्ड के मौजूदा अध्यक्ष प्रसून जोशी पर भी निशाना साधा और कहा कि वह ‘राजनीतिक तौर पर प्रेरित हैं.’ उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि जब एक फिल्म को प्रमाणन के लिए बोर्ड के पास भेजा जाता है तो बोर्ड की स्क्रीनिंग कमेटी ने फैसला करने में 21 दिन का वक्त लगता है. लेकिन इस मामले में फैसला करने में उसे 40 दिन लग गए.

गोविंदा के साथ फिर बनाई कॉमेडी फिल्म
पहलाज निहलानी इससे पहले भी एक्टर गोविंदा के साथ कई कॉमेडी फिल्में बना चुके हैं. फिल्म ‘रंगीला राजा’ के साथ एक बार फिर इन दोनों की जोड़ी बॉक्स ऑफिस पर तहलका मचाना चाहती है. निहलानी ने कुछ दिन पहले मीडिया के साथ बातचीत में अपनी फिल्म के बारे में जानकारी दी थी. उन्होंने कहा था, ‘इस फिल्म का शीर्षक ‘रंगीला राजा’ है और यह पूरी तरह से एक कॉमेडी फिल्म है. ऐसी कॉमेडी गोविंदा ने पहले कभी नहीं की. गोविंदा जिस प्रकार की कॉमेडी के लिए मशहूर हैं, उन्होंने इस फिल्म में उससे बिल्कुल अलग बेहद कॉमेडी की है.’ गोविंदा के किरदार के बारे में बात करते हुए निहलानी ने कहा, ‘उनकी दोहरी भूमिका है. लेकिन दर्शक उन्हें चार अलग-अलग तरह के किरदारों में देंखेगे, जो लोग गोविंदा की वापसी का इंतजार कर रहे हैं वे उन्हें ‘रंगीला राजा’ में देखकर बहुत खुश होंगे. यह गोविंदा के पुनर्जन्म की तरह है और मैं उनकी बॉलीवुड में वापसी की फिल्म का हिस्सा बनकर खुश हूं.’

(इनपुट – एजेंसी)