शाहीन भट्ट ने डिप्रेशन से अपनी लड़ाई के बारे में हाल ही में खुलकर बात की थी और अब उनकी मां और मशहूर अभिनेत्री सोनी राजदान ने कहा कि वह अपनी बड़ी बेटी के लिए हमेशा परेशान रहा करती थीं और उन्होंने उसकी ताकत बनने की कोशिश की.एक टेलीविजन इंटरव्यू में शाहीन ने अपनी किताब ‘नेवर बीन (अन) हैप्पीअर’ के बारे में बात की.

इस किताब में शाहीन ने अपनी भावनाओं को व्यक्त किया है जिसमें उन्हें कब डिप्रेशन हुआ और किस तरह से बचपन में घटी घटनाओं ने उन्हें अवसाद की ओर धकेला, ये सारी बातें लिखी गई हैं.

Image result for soni razdan with daughters, india.com

भावनात्मक रूप से किस तरह से उन्होंने इस स्थिति को संभाला, इस सवाल पर सोनी ने बताया, “मैं एक मां हूं. बात चाहे आलिया की हो या शाहीन की, किसी भी वक्त अगर उन्हें कोई परेशानी हो रही है तो मैं ही वह हूं जिन पर इन सबका बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है.”

सोनी ने कहा, “मैं मां हूं और स्वाभाविक रूप से बच्चों के साथ भावनात्मक जुड़ाव काफी मजबूत है. इसलिए कई बार ऐसा भी होता है जब मैं परेशान होने की वजह से रातों में सो नहीं पाती हूं. खासकर, शाहीन के मामले में, मैं काफी परेशान थी क्योंकि इस कम उम्र में उस पर काफी कुछ गुजर रहा था.”

सोनी ने कहा, “एक मां होने के नाते मुझे उस वक्त मजबूत होकर शाहीन की मदद करने और उसे ठीक करने के लिए सही निर्णय लेने की जरूरत थी. मैंने वही किया जो एक मां को करना चाहिए था. ”

Image result for soni razdan with daughters, india.com

सोनी बहुमुखी प्रतिभा की धनी हैं, 60 साल की उम्र में भी ‘राजी’, ‘नो फादर्स इन कश्मीर’ और ‘योर्स ट्रूली’ में बेहतर प्रदर्शन कर उन्होंने सबको चौंका दिया है.

ओटीटी प्लेटफॉर्म जी5 पर रिलीज हुई ‘योर्स ट्रूली’ में सोनी मुख्य भूमिका निभा रही हैं. इसमें आहाना कुमरा, पंकज त्रिपाठी भी हैं. इनके अलावा फिल्म निर्माता महेश भट्ट भी इसमें एक स्पेशल किरदार को निभा रहे हैं.

फिल्म की कहानी एक मध्यम वर्गीय उम्र के औरत के इर्द-गिर्द घूमती है. इसकी कहानी एनी जैदी की शार्ट स्टोरी पर आधारित है.

Image result for shaheen bhatt , india.com

सोनी इसमें अपने उम्र के ही किरदार को निभा रही हैं, ऐसे में उनका कहना है कि फिल्म में मुख्य किरदार को समझना उनके लिए आसान था.

अपने किरदार के बारे में बात करते हुए सोनी ने कहा, “वह अकेली है, लेकिन मेरे लिए मीठी के बारे में सबसे दिल दुखाने वाला यह था कि उसे कभी भी अपना जीवन साथी चुनने का मौका नहीं मिला. अकेलेपन से हम सभी गुजरते हैं, यहां तक कि कम उम्र में भी. जब बच्चे पढ़ाई या काम के लिए अपने होमटाउन से एक नए शहर में जाते हैं, आसपास दोस्तों के होने के बावजूद, कहीं न कहीं आप अकेलेपन का शिकार हो जाते हैं.”

सोनी ने बताया, “वक्त के साथ-साथ आप इसका मुकाबला करना सीख जाते हैं. सबसे पहले खुद से खुद की दोस्ती जरूरी है.”

‘योर्स ट्रूली’ की शूटिंग कोलकाता में चल रही है. सोनी राजदान को यह शहर इसके वृहद इतिहास के चलते काफी पसंद है.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.