नई दिल्ली: अभिनेता सोनू सूद (Sonu Sood) को भारतीय चुनाव आयोग (Election Commission of India) ने पंजाब राज्य का स्टेट आइकॉन चुना है. सोनू ने इस सम्मान पर खुशी जाहिर की और कहा कि वह इससे सम्मानित महसूस कर रहे हैं. सोनू ने लॉकडाउन के दौरान हजारों लोगों की मदद की थी. वह लगातार दूसरे राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों की मदद कर रहे थे ताकि वे अपने घरों तक पहुंच सकें. Also Read - किसानों के मुद्दे पर भिड़े दो सीएम, अमरिंदर सिंह बोले- मनोहर लाल खट्टर मेरे मोबाइल पर फोन कर सकते थे

साथ ही सोनू ने मजदूरों के अलावा कई अन्य लोगों को फेस शील्ड, खाना, मोबाइल फोन और अन्य चीजों से मदद की. कुछ दिनों पहले सोनू ने कहा था कि वह अपनी आत्मकथा लेकर आ रहे हैं, जिसका नाम ‘मैं मसीहा नहीं हूं’ है. Also Read - सरकार किसान यूनियनों से बात के लिए तैयार, राजनीतिक दल पॉलिटिक्‍स न करें: केंद्रीय कृषि मंत्री तोमर

अभिनेता के तौर पर पहचान बनाने वाले सोनू सूद ने लॉकडाउन के दौरान प्रवासी श्रमिकों की बहुत मदद की थी. वह श्रमिकों के बड़े मददगार के रूप में सामने आये और अभिनेता से अलग उनकी समाजसेवी और दरियादिल वाले इंसान की पहचान पूरे देश में बनी. उन्होंने देश के अलग-अलग हिस्सों में श्रमिकों को उनके घर भेजा. हज़ारों मजदूरों की मदद की. कई जगहों पर मजदूरों ने उनकी पूजा तक कर डाली और उन्हें मसीहा तक बता डाला. मजदूरों की मदद करने के बाद से सोनू सूद की खूब चर्चा है. Also Read - Kisan Andolan Latest Update: ‘दिल्ली चलो’ प्रदर्शन में शामिल होने के लिए पंजाब से निकले और किसान, 50,000 से ज्यादा बताई जा रही संख्या