नई दिल्ली. बॉलीवुड में अभी गिनती की फिल्में ही की हैं एक्टर रवि साह ने, लेकिन इन्हीं फिल्मों में उनके दमदार अभिनय ने दर्शकों का परिचय एक संवेदनशील एक्टर से करा दिया है. रवि साह ने पॉपुलर सिनेमा के साथ-साथ पैरलल-सिनेमा में भी अपनी पहचान बनाई है. यही वजह है कि लोग उन्हें ‘पान सिंह तोमर’ और ‘फिल्मिस्तान’ के लिए तो याद करते ही हैं, अगले कुछ महीनों में रिलीज होने वाली ‘लाइफ ऑफ एन आउटकास्ट’ में भी पसंद करते हैं. आने वाली फिल्म ‘लाइफ ऑफ एन आउटकास्ट’ में दलित बुजुर्ग की भूमिका में एक्टर रवि साह ने एक ऐसे आदमी का किरदार निभाया है जो ताउम्र सामाजिक भेदभाव झेलकर भी हार नहीं मानता. थियेटर की दुनिया में लंबे अर्से तक काम करने के बाद फिल्मों के पर्दे पर आने वाला यह एक्टर सिर्फ और सिर्फ अपने अभिनय के बलबूते ही बॉलीवुड की सीढ़ियां चढ़ने में लगा है. रवि साह की आने वाली फिल्म ‘लाइफ ऑफ एन आउटकास्ट’ में आप इस अभिनेता के नए अवतार से रूबरू होते हैं, जो पैरलल-सिनेमा यानी यथार्थवादी फिल्मों की तरफ आपका ध्यान खींचता है.

Ravi-Sah2

 

स्क्रीनिंग में ‘लाइफ ऑफ एन आउटकास्ट’ को खूब मिली तारीफ
एक्टर रवि साह की नई फिल्म ‘लाइफ ऑफ एन आउटकास्ट’ की बीते दिनों दिल्ली के फिल्म्स डिविजन में विशेष स्क्रीनिंग हुई. इसमें बड़ी संख्या में मौजूद फिल्म समीक्षक और दर्शकों के अलावा दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया भी मौजूद थे. फिल्म देखने के बाद मनीष सिसोदिया ने ‘लाइफ ऑफ एन आउटकास्ट’ की खूब तारीफ की और कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि आज इक्कीसवीं सदी में भी ऐसी फिल्में बनानी पड़ रही हैं जिसमें बहुसंख्यक आबादी प्रताड़ित स्थिति में सामने आती है. यह आवश्यक भी है क्योंकि आज भी समाज में दलित प्रताड़ना की घटनाएं घटित हो रही हैं. ऐसी घटनाएं बताती हैं कि देश में आरक्षण जारी रहना क्यों जरूरी है. मनीष सिसोदिया ने फिल्म ‘लाइफ ऑफ एन आउटकास्ट’ के निर्देशक पवन के. श्रीवास्तव को इस तरह की फिल्म बनाने के लिए और मुख्य अभिनेता रवि साह को बधाई दी. निर्देशक पवन के. श्रीवास्तव ने इस फिल्म के बारे में बताया कि यह फिल्म क्राउड-फंडिंग के जरिए बनाई गई है, क्योंकि पॉपुलर सिनेमा के मुकाबले सामाजिक विषयों पर फिल्म बनाने वालों को कोई आर्थिक मदद नहीं देता.

गंभीर और संजीदा अदाकार हैं रवि साह.

गंभीर और संजीदा अदाकार हैं रवि साह.

 

‘दबंग 2’ और ‘ताबीर’ जैसी फिल्मों से मिली शोहरत
बिहार के पूर्णिया जिले के रहने वाले बॉलीवुड अभिनेता रवि साह, बॉलीवुड स्टार और गंभीर अभिनय के लिए जाने जाने वाले एक्टर इरफान खान के साथ ‘पान सिंह तोमर’ में पहली बार किसी बड़े बैनर की फिल्म में दिखे थे. इसके बाद से उन्होंने ‘दबंग 2’ और ‘ताबीर’ जैसी कई फिल्में की हैं. इसके अलावा उनकी कई फिल्में आने वाले दिनों में रिलीज होने वाली हैं. अपनी नई फिल्म ‘लाइफ ऑफ एन आउटकास्ट’ में भी रवि साह अपनी बेहतरीन अभिनय प्रतिभा का प्रदर्शन किया है. फिल्म ‘लाइफ ऑफ एन आउटकास्ट’ में दलित पिता की भूमिका में एक्टर रवि साह की अदाकारी बेहद संजीदगी से भरी हुई है. फिल्म में एक दलित बुजुर्ग के दर्द को उन्होंने बड़ी खूबसूरती के साथ पर्दे पर उभारा है. फिल्म में कई दृश्यों में बगैर संवाद बोले, सिर्फ अपने भावाभिनय से उन्होंने फिल्म की कहानी को और धार दी है. बगैर संवाद के निभाई गई उनकी भूमिका, रवि साह के थियेटर के एक मंजे कलाकार होने की क्षमता को दिखाता है.

फिल्म पान सिंह तोमर में अभिनेता इरफान खान और नवाजुद्दीन सिद्दिकी के साथ एक्टर रवि साह.

फिल्म पान सिंह तोमर में अभिनेता इरफान खान और नवाजुद्दीन सिद्दिकी के साथ एक्टर रवि साह. (फोटो साभारः फेसबुक)

 

थियेटर को आज भी मानते हैं फिल्मों से बड़ा
बिहार और मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में कई वर्षों तक थियेटर करने वाले एक्टर रवि साह आज भी फिल्मों से ज्यादा थियेटर को तवज्जो देते हैं. हालांकि मायानगरी मुंबई पहुंचने के बाद अब नाटकों के लिए उनके पास समय कम रहता है, फिर भी नाटक करने का अवसर मिले तो वे इससे चूकते नहीं हैं. भोपाल में प्रसिद्ध रंगकर्मी हबीब तनवीर के साथ कई नाटकों में काम कर चुके रवि साह ने कुछ दिनों पहले India.com से बातचीत में कहा भी था कि थियेटर जिंदगी की समझ है. आप परिवार, समाज और अपने आसपास के माहौल को देखकर जो अनुभव करते हैं, उसे ही मंच पर उतारते हैं, वही नाटक है. यह फिल्मों की चकाचौंध नहीं है. इसे इस रूप में ही लिया जाना चाहिए. हालांकि बॉलीवुड में थियेटर के कलाकारों को ज्यादा महत्व नहीं दिए जाने पर रवि साह ने दुख भी व्यक्त किया. उन्होंने कहा था, ‘थियेटर से फिल्मों की दुनिया में जाने वालों को बॉलीवुड सम्मान तो देता है, उन्हें फिल्मों में दमदार भूमिकाएं भी देता है, लेकिन हीरो नहीं बनाता. थियेटर से गए कलाकारों को फिल्मों की चकाचौंध वाली दुनिया में हीरो की नजर से नहीं देखा जाता. क्योंकि हीरो तो चिकने-चुपड़े चेहरे वाले होंगे या फिर स्टार-पुत्र.’