कलाकार : वरुण धवन, श्रद्धा कपूर, नोरा फतेही, धर्मेंश येलंडे, पुनीत पाठक, सलमान युसुफ खान और राघव जुयाल आदि.
निर्देशक : रेमो डिसूजा.
निर्माता : भूषण कुमार, लेजली डिसूजा.
रेटिंग : 3 Also Read - Kangana Ranaut ने Taapsee Pannu पर साधा निशाना, कहा- तुम हमेशा सस्ती रहोगी...

स्ट्रीट डांसर 3डी एबीसीडी फिल्म की तीसरी सीरीज़ है. फिल्म देखने पर कहानी का सार ज्यादा अलग नहीं लगता है, क्योंकि इसमें भी स्ट्रीट डांसरों का अपने डांस के प्रति जूनून और अंततः एक प्रतियोगिता के लिए संघर्ष दिखाया गया है. असल में ये फिल्म डांस के प्रति कुछ कर गुजरने के दीवानों को बेहद पसंद आएगी, जिसमें जबरदस्त ताबड़-तोड़ डांस स्टेप और वो भी चमचमाती लाईटिंग इफेक्टस और 3डी में. वैसे निर्देशक रेमो डिसूजा ने दर्शकों को दिखाना क्या चाहा है, डांस और सिर्फ डांस, जब दर्शक फिल्म को देखना शुरू करते हैं, तो कहानी में डांस के वर्चस्व के चलते फर्स्ट हॉफ के बाद तक भी दर्शकों को प्रभावित नहीं कर पाती, यूं कहें की बोरियत की हद तक चली जाती है, क्योंकि कहानी में कुछ नया आपको देखने को मिलता नहीं. अब या तो आप इसकी कहानी समझ लो या फिर डांस में डूब जाओ. Also Read - Alia Bhatt Bridal Look: पिंक लहंगे और भारी गहनों में अप्सरा लग रही हैं Alia, Ranbir नहीं इनकी बनी दुल्हनिया

Panga VS Street Dancer 3D Twitter Review: किस फिल्म में है कितना दम? ‘स्ट्रीट डांसर 3डी’, पंगा में से लोग कर रहे हैं किसको पसंद? Also Read - Tapsee Pannu ने टैक्स चोरी के आरोपों पर 3 बातें लिखकर दी सफाई, Kangana पर तंज कसते हुए कहा 'सस्ती नहीं रही मैं'

फिल्म की कहानी कुछ यूं शुरू होती है कि पंजाब के सहज जैसी (वरुण धवन) लंदन में परिवार के साथ रहते हैं, साथ ही उनका बड़ा भाई इंदर भी है, जो एक बड़ी डांस प्रतियोगिता में चोटिल होने के कारण हार जाता है. ऐसे में सहज एक सपना लिए पंजाब जाता है, और वहां लोगों को लंदन ले जाने के बदले पैसा जुटा कर वापस लंदन आ अपना एक स्टूडियो खोलता है, जिसके बाद भाई इंदर की टीम स्ट्रीट डांसर फिर से अपनी टीम बनाती हैं. वहीं इनके विरोध में एक पाकिस्तानी टीम की लीडर इनायत (श्रद्धा कपूर) रूल ब्रेर्स डांस ग्रुप चलाती है. इन्हीं दोनों से अलग हैं एक रेस्टोरेंट चलाने वाले अन्ना (प्रभु देवा), जिनका एक मकसद है, भारत से नौकरी की तलाश में आए लंदन में फंसे लोगों को अपने वतन भेजना, जो हर रोज उनको खाना खिला उनकी मदद करते हैं. एक दिन इनायत अन्ना की इस सोच से प्रभावित हो जाती है, और यह मकसद बनाती है कि जो डांस प्रतियोगिता में पैसा मिलेगा उससे इन लोगों की मदद करेगी और इन सबको वापस अपने वतन जाने का अवसर मिलेगा. अब कहानी में ट्वीस्ट यह है कि सहज जैसी या इनायत की टीम कम्पीटीशन जीतती है, या नहीं और उनकी क्या कैमेस्ट्री बनती है फिल्म के क्लाइमेक्स को जानने के लिए आपको यह फिल्म देखनी चाहिए.

एक बात तो तय है कि स्ट्रीट डांसर में जबरदस्त डांस स्टेप हैं, लेकिन यह फिल्म अगर 3डी में नहीं भी बनती तो ज्यादा अच्छा होता. वैसे वरुण धवन ने कमाल का डांस किया है. वहीं श्रद्धा कपूर ने भी अपने अभिनय के लिए अपनी पूरी ताकत लगा दी है. दोनों टीमों के बीच का उतार-चढ़ाव आकर्षक है.

अगर कहानी में एक और आकर्षक किरदार की बात करें तो वह हैं, नोरा फतेही, जो स्ट्रीट डांसर्स का साथ देता है, उनका खूबसूरत और ग्लैमरस लुक दर्शकों को आकर्षित करेगा. वहीं रेमो टीम के अन्य डांसर भी फास्ट डांस में नजर आते हैं. अन्य कलाकारों में पुनीत पाठक, धर्मेश येलंडे, सलामन युसुफ खान व राधव जुयाल का अभिनय भी ठीक है.


अन्ना उर्फ प्रभु देवा का मुकाबला गाना और डांस फिर एक बार दर्शकों के दिलों को छू जाएगा, जिसमें वे जबरदस्त लुक में नाचते नजर आ रहे हैं. यही एक गाना दर्शकों को देखने के बाद खुश कर देगा. असल में यूं कहें कि यह फिल्म देखने जाने वाले हैं, तो यह सोचकर जाएगा कि आपको सिर्फ एंटरटेनमेंट ही करना है, ज्यादा कुछ सोचना समझना नहीं, अन्यथा निराश हो सकते हैं.