Sunny Deol Birthday Special: बॉलीवुड की दुनिया में अपने अभिनय से एक अलग पहचान बनाने वाले अभिनेता सनी देओल (Happy Birthday Sunny Deol) का आज जन्मदिन है. 19 अक्टूबर 1956 को जन्मे सनी की एक्टिंग ने हिंदी सिनेमा जगत को लंबे वक़्त तक खूब रौशन रखा. घातक, दामिनी और गदर जैसी फिल्मों से लोगों के दिलों में बसने वाले इस एक्टर का ताल्लुक बचनपन से ही फिल्म इंडस्ट्री से था. अभिनेता धर्मेन्द्र के घर पैदा हुआ ये सितारा छोटी उम्र से ही रंगमंच की तरफ आकर्षित था. Also Read - IPL 2020: सुरेश रैना की CSK में वापसी को लेकर BCCI के पास कोई जवाब नहीं

सनी की माँ का नाम प्रकाश कौर हैं. इनकी सौतेली माँ हेमा-मालिनी भी हिंदी सिनेमा की सफल अभिनेत्री रह चुकी हैं. सनी देओल ने अपने करियर शुरुआत साल 1984 में फिल्म बेताब से की थी. इस फिल्म में उनके अपोजिट अभिनेत्री अमृता सिंह नजर आई थीं. इस फिल्म के बाद से सनी के अभिनय और डायलॉग्स डिलीवरी को खूब सराहा गया. सनी की कुछ फिल्मों में देशभक्ति और देशप्रेम की भावना दिखाई देती है. Also Read - सुरेश रैना को मिला सनी देओल का साथ, बोले- क्रिकेटर के परिवार को मिले इंसाफ

सनी देओल ने बहुत ज्यादा देशभक्ति फिल्में नहीं की लेकिन ‘बॉर्डर’,’गदर:एक प्रेमकथा’ और ‘माँ तुझे सलाम’ जैसी फ़िल्मो से सनी पाजी ने फ़िल्मी परदे पर अपनी देशभक्ति की खूब पहचान बनाई और अपने दमदार डायलॉग से सबका दिल जीत लिया. आज उनके जन्मदिन के मौके पर हम आपको उनके 5 दमदार देशभक्ति डायलॉग (5 Famous Dialogues of Sunny Deol) याद कराएंगे जिसे सुनकर या पढ़कर आपके अंदर बहता खून उबाल देशप्रेम की भावना में उबाल मारेगा. Also Read - Actors In Patriotic Movies: देशभक्ति की मिसाल हैं इन 5 एक्टर्स की फ़िल्में, देखिए हिंदुस्तान की पहचान!

फिल्म: ‘माँ तुझे सलाम’

Maa-Tujhhe-Salaam-Final-Showdown-Action-Scene

‘तुम दूध मांगोगे हम खीर देंगे… तुम कश्मीर मांगोगे हम चीर देंगे’

फिल्म: ‘ग़दर : एक प्रेम कथा’

sunny-deol-gadar 3

‘हमारा हिंदुस्तान जिन्दाबाद था… जिन्दाबाद है… और जिन्दाबाद रहेगा’

फिल्म: ‘ग़दर : एक प्रेमकथा’

Gadar---Ek-Prem-Katha-40487_23915

‘बरसात से बचने की हैसियत नहीं…और गोली बारी की बात कर रहे है आप लोग’

फिल्म: ‘बॉर्डर’

sunny deol

‘ज़िन्दगी और मौत वाहेगुरु के हाथ में है…और मेरा वाहेगुरु दुश्मन के साथ नहीं… मेरे साथ है’

फिल्म: ‘ग़दर : एक प्रेम कथा’

‘एक कागज़ पर मोहर नहीं लगेगी… तो क्या तारा पाकिस्तान नहीं जाएगा ?’