नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि बॉलीवुड फिल्म ‘लवरात्रि’ के निर्माता सलमान खान वेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ देश के किसी भी हिस्से में कोई दंडात्मक कार्रवाई नहीं की जाएगी. प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने इस दलील पर विचार किया कि फिल्म को केन्द्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सेंसर बोर्ड) से स्वीकृति मिल गई है, इसके बावजूद बिहार में इसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है और गुजरात के वडोदरा में आपराधिक मुकदमा लंबित है.

फिल्म पांच अक्टूबर को पूरे देश में रिलीज होनी है. पीठ ने निर्माता की याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि फिल्म के नाम और उसकी सामग्री के संबंध में उसके खिलाफ कोई दंडात्मक कार्रवाई ना की जाए. फिल्म के खिलाफ कई आपराधिक मामले दर्ज कराये गये हैं. इनमें आरोप लगाया गया है कि फिल्म के नाम से हिन्दुओं की धार्मिक भावना आहत हो रही है. फिल्म का नाम पहले ‘लवरात्रि’ था जिसे बाद में निर्माताओं में बदलकर ‘लवयात्री’ कर दिया क्योंकि वह हिन्दूओं के त्योहार ‘नवरात्रि’ से मिलता-जुलता था. इस फिल्म में सलमान खान के बहनोई आयुष शर्मा और वरीना हुसैन मुख्य भूमिकाओं में हैं.

इससे पहले सलमान खान ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था. चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने उनकी याचिका स्वीकार करते हुए आज सुनवाई करने की बात कही थी.