नई दिल्ली: सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस (Sushant Singh Suicide Case) पिछले कुछ दिनों से खूब सुर्ख़ियों में हैं. इस मामले की जांच भी तेज़ी से चल रही है. हर रोज़ सामने आ रहे नए बयान और नए खुलासे से यह केस उलझता जा रहा है. बीते कुछ दिनों से ईडी की पूछताछ में सुशांत के परिजन और उनकी गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) के साइड से कई वॉट्सऐप मैसेजेस को लेकर खुलासे हुए हैं. इसी सिलसिले में अब सुशांत के पिता द्वारा रिया चक्रवर्ती को किए गए मैसेज भी सामने आए हैं.Also Read - Aryan Khan Drugs Case के बीच Rhea Chakraborty ने कर दिया ऐसा पोस्ट...हो गया वायरल, जानें क्या कहा

दिवंगत अभिनेता के पिता ने रिया से सुशांत से बात कराने की गुहार लगाई थी. 29 नवंबर 2019 को सुशांत के पिता ने रिया को वॉट्सऐपमैसेज करते हुए यह लिखा था कि ‘जब तुम जान गई कि मैं सुशांत का पापा हूं तो बात क्यों नहीं की. आख‍िर बात क्या है? फ्रेंड बनकर उसका देखभाल और उसका इलाज करवा रही हो तो मेरा भी फर्ज बनता है कि सुशांत के बारे में सारी जानकारी मुझे भी रहे. इसलिए कॉल कर मुझे भी सारी जानकारी दो.’ Also Read - Rhea Chakraborty ने ठुकराया सलमान खान के 'Bigg Boss 15' का ऑफर! इतनी मोटी रकम को कहा NO

 Also Read - Bigg Boss 15: तो क्या सलमान खान के शो का हिस्सा होंगी रिया चक्रवर्ती ? स्टूडियो के बाहर हुईं स्पॉट

फोटो- आज तक 

यही नहीं सुशांत के पिता ने उसी रोज़ एकवॉट्सऐप मैसेज श्रुति मोदी को भी भेजा था. इस मैसेज में उन्होंने लिखा था, ‘मैं जानता हूं कि सुशांत के सारे काम और उसे भी तुम देखती हो. वह अभी किस स्थिति में है, इसके लिए बात करना चाह रहे थे. सुशांत से बात हुई थी तो वह कह रहा था कि मैं बहुत परेशान हूं. अब तुम सोचो कि एक पिता को कितनी चिंता होगी उसके लिए. इसलिए तुमसे बात करना चाह रहा था. अब तुम बात नहीं कर रही हो तो मैं मुंबई जाना चाहता हूं. फ्लाइट का टिकट भेज दो.’

फोटो- आज तक 

इन मैसेजेस को देखकर यह साफ़ पता लगाया जा सकता है सुशांत के पिता अपने बेटे को लेकर काफी परेशान थे. बता दें कि सुशांत मामले में अब रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) ने सुप्रीम कोर्ट में नई याचिका दायर की है. इसमें रिया ने कहा है कि मामले में उसका गलत तरीके से मीडिया ट्रायल चलाया जा रहा है और उसे सुशांत की मौत का दोषी ठहराया जा रहा है. रिया ने शीर्ष अदालत से यह सुनिश्चित करने का भी आग्रह किया कि उसे इस साल के अंत में होने वाले बिहार चुनावों के मद्देनजर राजनीतिक एजेंडे के तहत बलि का बकरा न बनाया जाए.