नई दिल्ली: सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस (Sushant Singh Rajput Suicide Case) अब अलग अलग विवादों में घिरता हुआ नज़र आ रहा है. हर रोज़ इस मामले में नए खुलासे हो रहे हैं. सीबीआई इस आत्महत्या मामले की जांच तेज़ी से कर रही है लेकिन इसी बीच मुंबई पुलिस और बीएमसी पर मुसीबतें आ गई. सुशांत की मौत के बाद अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के शवगृह में जाने को लेकर महाराष्ट्र राज्य मानवाधिकार आयोग (एसएचआरसी) ने मुंबई पुलिस और बृहन्मुंबई नगर निगम को फटकार लगाई है. Also Read - गर्लफ्रेंड के साथ समय बिताने के लिए कोरोना पॉजिटिव बता 'लापता' हो गया शख्स, पत्नी को हुआ शक और फिर...

बुधवार को एक अधिकारी ने बताया कि आयोग ने इसे लेकर दोनों से स्पष्टीकरण भी मांगा है. इतना ही नहीं, एसएचआरसी ने पुलिस और सिविल अथॉरिटीज से सोमवार तक मामले में अपना विस्तृत जबाव पेश करने का भी आदेश दिया है. आयोग के कार्यवाहक अध्यक्ष एम.ए.सईद ने आईएएनएस को इस मामले की पुष्टि की. Also Read - कंगना रनौत को जुर्माने की रकम नहीं देना चाहती BMC, बंबई हाईकोर्ट में दी यह दलील...

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आयोग के शीर्ष अधिकारियों ने रिया चक्रवर्ती की 14 जून को विले पार्ले में कूपर अस्पताल के शवगृह में जाने के वीडियो और न्यूज रिपोर्ट देखी थीं. बाद में आयोग ने कानून शाखा को इस बारे में जांच करने का निर्देश दिया, क्योंकि मृतक के केवल परिवार के सदस्यों को ही शवगृह में जाने की अनुमति दी जा सकती है. इसके बाद आयोग ने अस्पताल के डीन से पूछा कि किन परिस्थितियों के चलते उन्होंने रिया को शवगृह में जाने और दिवंगत अभिनेता के शव को देखने की अनुमति दी. Also Read - रिया केस में NCB का जबरदस्त एक्शन, चार पेडलर 4 करोड़ की ड्रग्स के साथ गिरफ्तार

चूंकि सोशल मीडिया और टेलीविजन पर वीडियो वायरल होने के बाद आयोग को इस बारे में कई शिकायतें मिली थीं. लिहाजा, आयोग ने इस पर कार्रवाई शुरू की है. जबकि मृतक के परिवार के अलावा किसी को शवगृह में जाने की अनुमति नहीं है, ऐसे में इस मामले से जुड़े लोगों को कानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है.

इस मामले में टिप्पणी लेने के लिए मुंबई पुलिस और बीएमसी अधिकारियों से आईएएनएस ने कई बार संपर्क किया, लेकिन अधिकारियों ने इनकार कर दिया.

इनपुट- एजेंसी