बॉलीवुड एक्ट्रेस तापसी पन्नू  जल्द ही फिल्म ‘सांड की आंख’ में नजर आएंगी. तापसी कहा कि एक शार्पशूटर की भूमिका निभाना उनके करियर का सबसे जटिल और कठिन अनुभव है. तापसी ने हाल ही में अप्रकाशित 100 हिंदी और अंग्रेजी कविताओं वाली एक किताब ‘अनरीड’ के विमोचन के मौके पर मीडिया से बातचीत के दौरान यह टिप्पणी की. Also Read - भूमि पेडनेकर इस फेस्टिव सीजन में बांट रही हैं ये गिफ्ट, हर जगह हो रही तारीफ़ 

Also Read - आठवले की पार्टी में शामिल हुईं पायल घोष, अनुराग कश्यप पर लगाया है #MeToo का आरोप; तस्वीरें

  Also Read - जब 'सांड की आंख' की शूटिंग के दौरान जल गया भूमि पेडनेकर का फेस, सुनिए पूरी दास्तां

View this post on Instagram

 

Announcing SAAND KI AANKH featuring @taapsee @bhumipednekar @itsvineetsingh directed by @tusharhiranandani produced by @nidhiparmarhira @reliance.entertainment on the life of @shooterdadiofficial and @shooterdadi . Shoot starts now

A post shared by Anurag Kashyap (@anuragkashyap10) on

तापसी और भूमि पेडनेकर फिल्म ‘सांड की आंख’ में निशानेबाज के किरदार में नजर आएंगी जो देश की सबसे बुजुर्ग महिला शार्पशूटर चंद्रो और प्रकाशी तोमर की कहानी पर आधारित है. फिल्म की शूटिंग के शेड्यूल के बारे में बात करते हुए तापसी ने कहा, “हमने नौ दिन की शूटिंग पूरी कर ली है. आठ मार्च को ‘बिल्ला’ की रिलीज है. मैं शूटिंग जारी रखने के लिए वापस उड़ान भरूंगी.”

अपने अनुभव को शेयर करते हुए तापसी ने कहा, “यह एक कठिन अनुभव रहा है. मुझे लगता है कि यह मेरे करियर की सबसे जटिल भूमिकाओं में से एक है. मुझे नहीं पता कि मैं इसे कैसे करूंगी. लेकिन मैं हर दिन अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश करूंगी.”

 

View this post on Instagram

 

‘If there’s one thing I’m willing to bet on, it’s myself’ Naina Sethi #Badla 8th March 2019

A post shared by Taapsee Pannu (@taapsee) on

फिल्म का शीर्षक ‘सांड की आंख’ काफी अलग है. फिल्म के निमार्ताओं द्वारा यह शीर्षक रखे जाने का कारण पूछने पर तापसी ने कहा, “सांड की आंख का मतलब अंग्रेजी में ‘बुल्स आई’ होता है यानि लक्ष्य का केंद्र, लेकिन फिल्म में हमने निशानेबाजों का देसी परिवार दिखाया है इसीलिए हमने यह नाम रखा.”

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.