अभिनेत्री तनुश्री दत्ता द्वारा अभिनेता नाना पाटेकर पर यौन शोषण करने का आरोप लगाने से हिंदी फिल्म उद्योग में इस मुद्दे पर बहस शुरू होने के बीच अभिनेता पुलकित सम्राट ने फिल्म बिरादरी से साथ आकर जहरीले लोगों को बेदखल करने की अपील की है. ‘फुकरे’ के अभिनेता ने रविवार को सोशल मीडिया पर एक लंबा पत्र लिखकर अपना पक्ष रखा.

उन्होंने पत्र में लिखा, “समानता, स्वतंत्रता और बिना भेदभाव वाले गुणों से बने बॉलीवुड उद्योग के एक अंग के तौर पर मुझे लगता है कि मुझे आगे आकर इस आडंबर का पर्दाफाश करना होगा. मुख्य रूप से इस मामले में जिसमें तनुश्री दत्ता ने नाना पाटेकर पर फिल्म के सेट पर उनका यौन शोषण करने का आरोप लगाया है. कहानी के बाहर आते ही मुझे आस-पास स्वाभाविक बातें सुनाई पड़ने लगीं. उन्होंने ये सब पहले क्यों नहीं कहा? उन्होंने लगभग एक दशक का इंतजार क्यों किया? नाना पाटेकर? लेकिन वे तो कितने अच्छे इंसान हैं. उन्होंने किसानों के लिए बहुत कुछ किया है.”

पुलकित ने फिर समाज पर चुप्पी को बढ़ावा देने के लिए आरोप लगाया.

उन्होंने लिखा, “एक समाज के तौर पर, कहीं ना कहीं हम चुप्पी को बढ़ावा देते हैं. हम शक्तिशाली लोगों पर गलत आरोप लगाने से इसलिए डरते हैं कि कहीं इससे हमारे करियर या सामाजिक स्थिति पर गलत प्रभाव न पड़ जाए. प्रशासन की उदासीनता से मामले में कोई फायदा नहीं मिलता.”

पुलकित (34) मानते हैं कि सबसे पहले फिल्मी दुनिया के लोगों को सक्रिय होकर प्रयास करना चाहिए और इस प्रथा को बदलना चाहिए.

पुलकित ने कहा, “अगर हमें लगता है कि कोई व्यक्ति लगातार गलत व्यवहार में संलिप्त पाया जाता है और यह हमारे सामने हो रहा है तो नजर घुमाने की अपेक्षा प्रशासन से ऐसे लोगों की शिकायत करनी चाहिए.”उन्होंने सभी लोगों से सही का साथ देने का आग्रह किया.गौरतलब है कि अभिनेत्री का आरोप है कि अभिनेता नाना पाटेकर ने 2008 में एक फिल्म के सेट पर उनके साथ अभद्र व्यवहार किया था. हालांकि पाटेकर ने आरोपों से इंकार करते हुए दत्ता को लीगल नोटिस भेज दिया है.

(इनपुट आईएनएस)

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.