पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के सलाहकार संजय बारु द्वारा लिखी पुस्तक पर बनाई गई फिल्म ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ शुक्रवार को रिलीज हो गई. इस फिल्म के रिलीज होने के दौरान इंदौर और जबलपुर में काफी हंगामा हुआ, वहीं ग्वालियर में भारी सुरक्षा के बीच फिल्म का प्रदर्शन हुआ. इंदौर में इस फिल्म को मल्हार मेगा मॉल में देखने बड़ी संख्या में भाजयुमों के कार्यकर्ता पहुंचे.Also Read - Anupam Kher के स्टेपसन Sikandar Kher के पास दनादन आ रहे हैं ऑफर्स, बोले- मैं काम का भूखा हूं और...

Also Read - Manmohan Singh Health Update: मनमोहन सिंह डेंगू से पीड़ित, एम्स में जाने-माने डॉक्टर्स कर रहे देख-रेख

Also Read - Manmohan Singh Health Update: मनमोहन सिंह की हालत स्थिर, ह्रदय रोग विशेषज्ञों की निगरानी में

फिल्म के दौरान पुलिस और भाजयुमों कार्यकर्ताओं के बीच जमकर बहस हुई. आखिरकार कई कार्यकर्ताओं को फिल्म देखने जाने दिया गया. इसी तरह ग्वालियर में भी सुरक्षा के बीच फिल्म रिलीज हुई. इस फिल्म के रिलीज होने के साथ पुलिस बल की तैनाती की गई, ताकि किसी तरह का विवाद न हो. जबलपुर के समदड़िया मॉल में भी फिल्म प्रदर्शन को लेकर हंगामा हुआ.

इस फिल्म को लेकर जनसंपर्क मंत्री पी.सी. शर्मा ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि वास्तव में तो एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर नरेंद्र मोदी हैं, जो अगले वर्ष 2019 में बाहर हो जाएंगे. मनमोहन सिंह को तो सांसदों ने प्रधानमंत्री के तौर पर चुना था. फिल्म में भाजपा सांसद किरण खेर के प्रसिद्ध अभिनेता पति अनुपम खेर और भाजपा सांसद रहे चर्चित अभिनेता (दिवंगत) विनोद खन्ना के बेटे अक्षय खन्ना ने प्रमुख भूमिका निभाई है.

इस फिल्म का मुख्य उद्देश्य देश को यह बताना है कि वर्ष 2004 में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार जाने के बाद कांग्रेस सत्ता में आई थी और तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अपने बेटे राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बनाने की तैयारी कर ली थी. कांग्रेस का आरोप है कि भाजपा ने लोकसभा चुनाव में फायदा लेने के लिए यह फिल्म बनवाई है और जब चुनाव में सिर्फ पांच महीने रह गए हैं, तब इसे रिलीज किया जा रहा है.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.